श्री नाथजी चालीसा

0 0
Read Time4 Minute, 1 Second

सात बरस के सांवरे,लीलाधारी श्याम।
महाप्रभू के लाड़ले, हिय कीजे विश्राम।।

हे जग नायक कुंज बिहारी।
मेटो मन की पीढ़ा सारी।।1
कोंख देवकी जनम तुम्हारा।
मातु यशोदा राज दुलारा।।2
संवत चौदह छाछठ आया।
श्रावण कृष्णा तीज सुहाया।।3
रविवासर की प्रातः आई।
प्रभु गोवर्धन प्रकटे भाई।।4
पहले वाम भुजा दिखलाई।
ग्वाला देख बड़ा हरषाई।।5
बहुत दिनों तक दूध चढ़ाया।
श्रीनाथ को खूब मनाया।।6
फिर मुखारबिंद बाहर आया।
ब्रजवासिन ने दर्शन पाया।।7
श्रावण शुक्ला पांचम आई।
पूर्ण स्वरूप दिये दिखाई।।8
ब्रज के ग्वाला सब हरषाई।।
बोले जय जय बाल कंहाई।।9
सन चौदह सौ बाणू आया।
महप्रभु ब्रज श्रीनाथ पठाया।।10
पूरण मल को शिष्य बनाया।
दान सेठ से खूब कराया।।11
सिरी नाथ के सेवा धारी।
सन पंद्रह में मंदिर भारी।।12
फिर बिट्ठल अभियान चलाया।
प्रेम तत्व विस्तार कराया।।13
आठ भक्त कवियों को जोड़ा।
अष्टछाप ब्रज भाषा मोड़ा।।14
गोवर्धन मेवाड़ लिवाई।
नाथ द्वार में दिये बिठाई।।15
बनी हवेली जग अलबेली।
दर्शन झा़की दिखे अकेली।।16
आठो यामा आठो पूजा।
ठाकुर सेवा धरम न दूजा।।17
राज भोग सिंगार सजाई।
सेवा तीनों है ठकुराई।।18
दाढ़ी मोती हीरा सोहे।
मधु मुस्कानी मूरति मोहे।।19
हे गोपाला हे नंदलाला।
प्रेम भाव को तुमने पाला।।20
बेसन मोदक खाओ लाला।
सुंदर मूरति उर में माला।।21
नाम तुम्हारे पार उतारे।
आठों यामा भगत पुकारे।।22
कृष्ण वसुदेव पुण्य सनातन।
लीला मानुष देवकीनंदन।।23
योगीपति शकटासुर भंजन।
पुण्य श्लोका हरी निरंजन।।24
यादवेन्द्र इलापति योगी।
हे वनमाली रक्षक गोपी।।25
माखन मिश्री मोद खवैया।
लाल जसोदा नाच नचैया।।26
जगतगुरु विष्णु अवतारी।
जनजन के तुम पीड़ाहारी।27
आदि अनंता अमर अभेदा
जगन्नाथ हरि रूप अनेका।28
परमपुरुष तुम द्वारक धीसा
दामोदर गोविंद जगदीशा।29
कोटि सूर्य सम प्रभा अनंता।
यशोद वत्सल श्री भगवंता।।30
मथुरानाथा यदुपति ग्वाला।
रूप चतुर्भुज दीनदयाला।।31
मुष्टिक चाणुर मान गिराये।
मामा कंसा स्वर्ग पठाये।।32
गज को भी तो आप बचाया।
द्रोपदि का भी चीर बड़ाया।।33
करमा के घर खिचड़ी खाते।
विदुराणी घर भोग लगाते।।34
छोड़ मिठाई दुर्योधन की।
पीड़ा हरते सब दुखियन की।।35
उत्तर कृष्ण गुपाल कहाते।
सिरी नाथ ठाकुर बन जाते।।36
महाराष्ट्र बिट्ठल कहलाते।
जगन्नाथ उत्कल बन आते।।37
बहिन सुभदरा हलधर भाई।
जगन्नाथ रथ लगे सुहाई।।38
बंगाला में जय गोपाला।।
दक्षिण वेंकटेश गोविन्दा।।39
धीसद्वारका कह गुजराता।
पूर्वोत्तर में कृष्ण कहाता।।40

तीनों पूजा कीजिए,दरश परस अस्नान।
एकादश का व्रत करें, सिरी नाथ भगवान।।

डॉ दशरथ मसानिया
आगर मालवा म प्र

matruadmin

Next Post

अहद प्रकाश जी की स्मृति पर मातृभाषा ने घोषित किए दो पुरस्कार

Thu Jun 17 , 2021
इंदौर। प्रसिद्ध बाल साहित्यकार एवं ग़ज़लकार अहद प्रकाश जी की स्मृति में मातृभाषा उन्नयन संस्थान ने दो सम्मान, ‘अहद प्रकाश बाल साहित्य गौरव सम्मान’ एवं ‘अहद प्रकाश ग़ज़ल रत्न सम्मान’, घोषित किए, जो प्रतिवर्ष एक बाल साहित्यकार एवं एक ग़ज़लकार को दिए जाएँगे। इन पुरस्कारों के लिए देशभर से प्रविष्टियाँ […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।