कोरोना की मधुशाला

Read Time1Second

कहो करोना क्या कर पाए,
जब खुल जाऐं मधुशाला।
जब कज़ा मुकाबिल खड़ी हमारे,
तब बेमानी लगती हाला।।

एक तरफ तो शिफा लाज़िमी,
एक तरफ गड़बड़झाला।
आमद में तल्लीन सियासत,
श्वेत वसन मुद्दा काला।।

क्यों मौतों को तौल रहे ‘वो’ ,
बनी हलाहल जब हाला।।
बंद तिजारत करो कज़ा की,
मीत लगे ‘मधु’ पर ताला।।

केवल दुआ दवाई शिफा बस,
चले सांस की नित माला।।
सच मानो विषपायी हाला,
अब काल कोठरी मधुशाला।।

प्रखर दीक्षित*
फर्रुखाबाद

0 0

matruadmin

Next Post

रिश्ते

Wed May 12 , 2021
रिश्ते भी तो सारे , रंग बदलते हैं, कभी प्यार कभी, नफरत में रंगते हैं।। अपने मतलब के सांचे में, हरपल ये ढलते हैं। रिश्ते भी गिरगिट सा, रंग बदलते हैं।। जब तक हो गरज इनकी, फूलों से महकते हैं। काम निकलने पर ये, नागिन सा डसते हैं।। बदले की […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।