संघर्ष

Read Time0Seconds

जिंदगी कितनी मिली
ये कभी मत सोचो।
जिंदगी में क्या कुछ
तुम्हें मिला ये सोचो।
जिंदगी मिली है तुम्हें
कुछ करने के लिए।
इसे तुम यूही मत
बिना वजह के गवाओं।।

जिंदगी को तुम समझो
और इसका मनन करो।
फिर मायाने जिंदगी के
लोगों के जहन में बैठाओं।
कर सके अगर ये काम
तुम अपनी जिंदगी में।
तो तुम्हारा मनुष्य जन्म
सफल हो जायेगा।।

गिरता रहा उठता रहा
जिंदगी को चलता रहा।
रुक अगर गये होते तब
विपत्तियों से हार कर।
तो जिंदगी को अबतक
हम खो चुके होते।
बिना लड़े परस्त होना
जिंदगी की बुझदिली होती।
इसलिए जिंदगी के साथ
निरंतर संघर्ष करता रहा।।

जय जिनेंद्र देव
संजय जैन मुंबई

0 0

matruadmin

Next Post

मजबूर

Sat May 8 , 2021
सुन लो साहब !मेरी भी, मैं तो एक मजदूर हूँ। किस्मत का मारा मैं बेचारा, प्रभु की रहमत से दूर हूँ। लॉक डाउन हुआ है जब से, रोजगार कोई मिलता नहीं। दो वक्त की रोटी का भी , जुगाड़ कोई करता नहीं। हर रोज़ निकलता हूँ घर से, पर काम […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।