हमने लिया है सच लिखने का जिम्मा

0 0
Read Time39 Second

अमनो अमन बेचे कुछ गद्दार बन गए
तलवे चाटते रहें और हिस्सेदार बन गए

ओढ़ रखा है समाजसेवक का लिबास
खलनायक भी नायक के किरदार बन गए

जुबाँ में नहीं उनके गालियों के सिवा कुछ
पास उनके जरूरत से ज्यादा हथियार बन गए

हमने देखा है उजला चेहरा और दिल काला
सरे बाज़ार देखो वो गुनहगार बन गए

हमने लिया है सच लिखने का जिम्मा”सागर”
ऐसे ही थोड़े हम कलमकार बन गए

-किशोर छिपेश्वर”सागर”
बालाघाट

matruadmin

Next Post

नारी ने नर कों जन्म दिया

Sat Sep 26 , 2020
नारी ने नर को जन्म दिया नर ने उसे है बाजार दिया जिस नारी ने नर को पाला है उस नर ने उस पर अत्याचार किया।। समय अब बदल रहा है नारी अब बदल रही हैं वह अपने अधिकारों को काफी अब समझ रही हैं।। पहले नारी अशिक्षित थी अब […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।