क्योकि हम तो आधुनिक है…

0 0
Read Time3 Minute, 23 Second

अरे! क्या कहा नवरात्रि आ रही है तो क्या हुआ हमे क्या लेना -देना हम तो बस इंजॉय करेंगे।
इतना इंजॉय करें की भगवान को ही भूल जाएंगे,
वैसे भी क्या है ? यह सब संस्कार, संस्कृति ,आदर्श, सभ्यता क्या मतलब भाई इन सब से हमे ,हम तो बस इंजॉय करेंगे।

इसलिए नहीं कि हम आधुनिक है इसलिए की हमे दिखाना है हम आधुनिक है….

क्या फर्क पड़ता है अगर हमें नव दुर्गा के 9 नाम नहीं पता क्या फर्क पड़ता है अब हम गरबो पर फ़िल्मी गीतों पर नाचते है और क्यों नहीं नाचेंगे , जरूर नाचेंगे क्योकि हम तो आधुनिक है… और हमे दुर्गा माँ से और उनकी आराधना से क्या मतलब हम तो इंजॉय करेंगे। क्यों न करें तुम होते कौन हो हमे समझने वालें हम तो करेंगे।

क्योकि हम तो आधुनिक है…

और आप यूँही गणपति जी की बात करते हो साहब क्या है यह सब हम तो बस एक मूर्ति ले आएंगे 10 दस बेबी डॉल , चार बोटल वोडका , कमरिया लचके डांस करेंगे और फिर किसी नदी नाले में मूर्ति को बहा कर उसे भव्य विसर्जन का नाम दे देंगे खैर छोडो हमे क्या लेना देना भगवान से हम तो आधुनिक है…

और आज के दौर में कहाँ किसी को जज करने की जरूरत है सब अपने अपने लक्षण दिखा देते है।
किसी की वेशभूषा पर टिप्पणी करने का किसी को कोई हक़ नहीं हमारा मन जैसा हो हम वैसा पहने , हम वो पहने अरे ! जो करना है वो करेंगे।

क्योकि हम तो आधुनिक है….

खैर छोडो नवरात्री आ रही है, रुको – रुको !, सॉरी -सॉरी ! गरबा आ रहा है हम तो 9 दिन एंजॉयमेंट करेंगे । दुर्गा माँ ! उनका क्या है उनके तो बहुत भक्त है हम तो इंजॉय करेंगे।

क्योंकि हम तो आधुनिक है…

पूजा , भगवान वगेरा में क्या रखा है साहब ?
हाँ पांडाल में 10 मिनीट की आरती करनी है ,फोर्मिलिटी हैं यार यह सब तो पूरा कर देंगे। उसके बाद तो सारी रात अपनी हैं। छोडो यह संस्कार , यह आदर्शवादी बातें साल में एक ही बार तो गरबा आता है।

फिर कहाँ यह फ़ालतू के काम करेंगे और रही बात पूजा , अर्चना , आरती , आराधना , श्रद्धा , दीपक , प्रसाद और उत्सव की तो इन सब के चक्कर में कहा पड़ना अरे! हम तो dj बजाएंगे यह सब तो वैसे ही आ जाएंगे।

खैर जो भी हो जैसा भी हो हम तो सिर्फ एंजॉयमेंट करेंगे।

क्योकि हम तो आधुनिक है….

  #दीपेश पालीवाल

परिचय : दीपेश पालीवाल वर्तमान में बी.ए. के विद्यार्थी हैं। उदयपुर (राजस्थान)की झाड़ोल तहसील के गोगला गांव के निवासी हैं। कविता लिखने के साथ ही मंच संचालन करते हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

चन्द्रयान

Fri Sep 27 , 2019
चंदामामा कभी दूर नही सिद्ध कर दिखाया भारत ने पहले चन्द्रयान एक भेजकर इतिहास बनाया भारत ने राकेश शर्मा ने चन्द्रधरा से भारत को अपने देखा था इंदिरा गांधी ने जब पूछा उनसे चन्द्रधरा से कैसा दिखता भारत तनिक बताओ तो सारे जहां से अच्छा भारत उन्होंने उनको बताया था […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।