श्याम वर्ण तेरा रूप निराला

0 0
Read Time2 Minute, 56 Second

श्याम सलोने तेरी मुरली है चितचोर
जग के खिवैया आजाओ नन्दकिशोर
श्याम वर्ण, तेरा रूप निराला
मथुरा जन्मे कृष्ण गोपाला
वासुदेव, देवकी ने जन्म दिया
पुत्र कहलाये यशोदा नन्दलाला
सुंदर मुखड़ा नयन काले-काले
सिर पे मोर मुकुट, बाल घुघराले
हाथ में मटकी, गले बैजंती माला
मनमोहनी मूरत, रूप निराला
उंगली पकड़कर चलना सिखावे
घुटुअन चले कभी ठुमके लगावे
अधरों पे मुरली, कर चक्र विराजे
पैरों में पाजेब छम छम बाजे
एक उंगली से पर्वत उठाया
तब से कृष्ण गिरिधर कहलावे
वृन्दावन की कुंज गलिन में
कन्हैया गोपियों संग रास रचावे
सखा ग्वाल संग गाय चरावे
कालीदेह में श्याम खेलन जावे
यमुना तट की कदम्ब डाल पर
बाँसुरी की मधुर धुन सुनावे
बंसी की धुन मनमोहने वाली
राधा के ह्रदय को घायल कर जावे
दुशासन ने दुष्टता दिखाई
द्रोपदी की तब लाज बचाई
भरी सभा में चीरहरण हुआ तो
कृष्ण ने द्रौपदी का चीर बढ़ाया
महाभारत के कुरुक्षेत्र में
भागवत गीता का पाठ पढ़ाया
ताडका, कंस, पूतना का वध कीना
उन्हें राक्षस योनि से मुक्ति दीना
मथुरा-वृन्दावन की पावन भूमि में
श्री कृष्ण की झाँकी सजावे
कृष्ण की भक्ति करे जो कोई
कान्हा उसकी नैया पार लगावे।

सुमन अग्रवाल “सागरिका”

आगरा(उत्तरप्रदेश)
नाम :- सुमन अग्रवाल

पिता का नाम :- श्री रामजी लाल सिंघल
माता का नाम :- श्रीमती उर्मिला देवी
शिक्षा :-बी. ए.
व्यवसाय :- हाउस वाइफ
प्रकाशित रचनाएँ :- 
प्रकाशित रचनाओं का विवरण :-
1.अग्रवंश दर्पण :-“नारी सुरक्षा चूंक कहाँ “, “महिला सशक्तिकरण “, “500-1000 के नोट बाय-बाय”, “दहेज प्रथा”, “अग्रप्रर्वतक महाराज अग्रसेन जी पर कविता” इत्यादि।
2.हिचकी :- “ये होली का त्यौहार”
3.D.L.A :- “आतंकवाद”, “बालदिवस”, “करवा चौथ”, आतंक का साया, “नववर्ष मुबारक”, “राष्ट्रप्रेमी” इत्यादि।
4.नारी शक्ति सागर :- “ग़ज़ल”

  1. वर्तमान अंकुर नोएडा :- “घर-परिवार, नारी शक्ति, भारतीय लोकतंत्र
    साहित्य एक्सप्रेस में – नव संवत्सर
    6.सहित्यापीडिया :- माँ

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कान्हा

Sat Aug 24 , 2019
कान्हा तेरे रंग में डूबा सारा संसार है तेरी प्रीत में रंगने को हर कोई तैयार है आज जन्माष्टमी का त्योहार है… जिधर देखूं उधर ही तेरी सूरत नजर आती है कान्हा तेरी प्रीत है ऐसी नजर कहीं और नहीं जाती है मन को पावन कर दे ऐसा तेरा नाम […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।