गधे का सीधापन 

0 0
Read Time4 Minute, 52 Second

mukesh rishi varma

बस ऐसे ही एक साहित्यिक पत्रिका के पृष्ठ उलट-पलट रहा था कि तभी एक लघुलेख पर नजर पड़ी | जो गधा महाशय के वर्णन में लिखा गया था | लेख में मुंशी प्रेमचंद की किसी रचना का कुछ हिस्सा साभार लिया गया था | लेख पढ़कर मेरी पुरानी स्मृतियां ताजा हो गई | मेरे नाम के पीछे जो ‘ ऋषि ’ शब्द लगा है, वो दो गधाओं की एक बड़ी कहानी से प्रेरित होकर ही आया है | मुझे बिल्कुल सही-सही याद है, जब मैं प्राईमरी में पढ़ता था | उस समय ताऊ को प्रौढ़शिक्षा के अन्तर्गत कुछ साहित्यिक पुस्तकें मिलीं थी | उन्हीं में से एक पुस्तक मेरे हाथ लग गयी | लेखक का नाम याद नहीं पर कहानी दो गधाओं की रही थी | बहुत ही रोमांचक कहानी थी | उसका अधिकांश सार मुझे याद है | जब दोनों गधे मित्र मुसीबत में फंस गये तो उन्होंने भेष बदल कर अपनी समस्या का हल निकाला | उनका एक संवाद “हम ऋषि कुमार हैं |” मुझे बहुत पसंद आया और मैं भी ऋषि कुमार बन गया, क्योंकि गधे के सभी गुण मुझमें विद्यमान हैं | हालांकि ऋषि कुमार मेरे चाहने वालों को पसंद नहीं आया और मजबूरन मुझे ‘कुमार’ हटाना पड़ा | शायद दो बार कुमार आने से लोगों को हजम नहीं हुआ होगा |

खैर अब बात करता हूँ, अपने प्रेरणास्त्रोत इष्ट मित्र गधे महाराज की | गधे को लोग बेवकूफ समझते हैं, लेकिन यह सत्य नहीं है | गधा बेवकूफ नहीं होता | उसके सीधेपन, भोलेपन का लोग गलत मतलब निकाल लेते हैं | सचमुच वह एक संत है, साधु है | उसे क्रोध नहीं आता, कितना भी दुख मिले दुखी नहीं होता और हाँ सुख में वो ज्यादा सुखी होने का रोब भी नहीं झाड़ता | सुख-दुख, लाभ-हानि में हमेशा स्थाई रहता है | उसका चेहरा रंग नहीं बदलता और ये सारे गुण एक साधु – संत में होते हैं, इसलिए हम गधे को ऋषि कुमार कह सकते हैं | वह सही मायने में इसका हकदार भी है | अगर सीधापन पागलपन की श्रेणी में आता है तो गधे को भी घोडे़ की तरह लात मारना सीख लेना चाहिए | अत्याधिक सद्गुण शायद इंसान को बेवकूफ की श्रेणी में ला देता है, क्योंकि अक्सर देखा जाता है कि जो लोग ऐंट दिखाते हैं, झूठा रोब झाड़ते हैं, लोग उनसे डरते हैं और सम्मान भी देते हैं परन्तु सीधे – साधे लोगों की तुलना गधे से की जाती है | दुनिया कुछ भी कहे पर मैं तो गधे से प्रेरणा लेने वाला हूँ और कभी – कभी घोड़े की तरह लात भी मार देता हूँ… लेकिन बेवजह कभी नहीं मारता | अत्याधिक मीठा होना मतलब चीटियाें को दावत देना और मैं नहीं चाहता कि चीटियां मुझे काटें | मेरे कुछ गुण नीम से भी मिलते हैं और फिर सारा संसार जानता है नीम के सद्गुणों  को, भले वो कुछ ज्यादा ही कड़वा है, परन्तु स्वास्थ्य के लिए लाभ दायक है |

#मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

परिचय : मुकेश कुमार ऋषि वर्मा का जन्म-५ अगस्त १९९३ को हुआ हैl आपकी शिक्षा-एम.ए. हैl आपका निवास उत्तर प्रदेश के गाँव रिहावली (डाक तारौली गुर्जर-फतेहाबाद)में हैl प्रकाशन में `आजादी को खोना ना` और `संघर्ष पथ`(काव्य संग्रह) हैंl लेखन,अभिनय, पत्रकारिता तथा चित्रकारी में आपकी बहुत रूचि हैl आप सदस्य और पदाधिकारी के रूप में मीडिया सहित कई महासंघ और दल तथा साहित्य की स्थानीय अकादमी से भी जुड़े हुए हैं तो मुंबई में फिल्मस एण्ड टेलीविजन संस्थान में साझेदार भी हैंl ऐसे ही ऋषि वैदिक साहित्य पुस्तकालय का संचालन भी करते हैंl आपकी आजीविका का साधन कृषि और अन्य हैl

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बेटियाँ

Wed Feb 27 , 2019
बेटियां चकोर जैसी,चाँदनी को ताकने सी। चाहती  है  आगे  बढ़े,   इन्हे  तो  बढाइये। विद्यालय  मे भेजना, समय हो तो खेलना। घर  को  सम्भाले  सुता, खूब  ही  पढ़ाइये। रीत  प्रीत  व्यवहार, सीख  सब  संस्कार। भारती  की  आन  को, बेटियों  निभाइये। बेटियाँ ही होगी मात,लक्ष्मी दुरगा साक्षात। आज बात  मेरी मान ,सब  […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।