मुर्दा नदी में जान डालने का जतन…

1
0 0
Read Time3 Minute, 59 Second

aadil

मशहूर अर्थशास्त्री जान मलार्ड कीन्स ने कहा था कि,अगर सरकार के पास काम न हो,तो वो सड़क पर गड्ढे खुदवाए और उन्हें भरवाकर लोगों को रोजगार दे। इस सिद्धांत को साम्यवादी देशों ने खूब अपनाया और अब अब अपनी मुंसीपाल्टी ने भी बहुत अच्छे से समझ लिया है। वह इसका इस्तेमाल ठेकेदारों को रोजगार देने में कर रही है,इसीलिए खान नदी में जान फूंकने का ढोंग किया जाता है। जिस तरह इंसान जीते-मरते हैं, उसी तरह पेड़-पौधे,नदी,तालाब, बोली-भाषा भी मरती है। जहां कभी टेथिस सागर था,आज वहां हिमालय खड़ा है। आने वाले वक्त में हो सकता है कि,वहां रेत के टीले हों,हिमालय के किस्से किताबों में ही मिलें। कभी इब्रानी भाषा में दुनिया के बड़े धर्म फले-फूले,लेकिन अब वह दुनिया से रवाना हो चुकी है तो संस्कृत सांसें गिन रही है,और सरस्वती नदी रेत में खो गई है। इसी तरह खान नदी अब नाला बन चुकी है। जिस तरह राजस्थान की रेत से सरस्वती नदी ढूंढने की कोशिश फ़िज़ूल है,उसी तरह प्रसिद्ध राजवाड़ा के नाले से सरस्वती और खान नदी निकालना भी भूसे में सुई ढूंढना है,लेकिन मुंसीपाल्टी को तो ठेकेदारों को रोजगार देना है,और हां शहर को स्मार्ट भी बनाना है, इसीलिए खान नदी के किनारे फिर बगीचा उगाने की कोशिश हो रही है। पहले भी ऐसा हो चुका है कि,मोटर बोट चलाएंगे,वह तो नहीं चली,लेकिन चलाने वाले मोटर चलाते दिख जाते हैं। चलो मान लेते हैं कि,निगम के ठेकेदार मामूली फायदा या जेब से पैसा लगाकर नाले किनारे को ‘स्मार्ट’ बना देंगे,तो क्या गारंटी है कि लोग वहां सैर करने आएंगे और कभी आ भी गए तो क्या गारंटी कि कचरा नहीं डालेंगे।
अरे,जब लोगों ने गंगा को कचरा डालकर मेला कर दिया तो, इस नाले की क्या बिसात! लोगों ने तो इसे अपनी आंखों से नाले से नदी बनते देखा होगा,गंगा के तो स्वर्ग से उतरने के किस्से सुने हैं,फिर भी नहीं माने.. तो खान के तो उन्हें माई-बाप का भी पता नहीं, इसे तो यकीनन वह नदी नहीं मानेंगे और कचरा डालेंगे। गंदा पानी इसमें छोड़ेंगे,लेकिन मुंसीपाल्टी को इससे क्या, वह तो कल्याणकारी राज्य की अवधारणा पर काम कर रही है। जब तक ठेकेदारों का कल्याण नहीं होगा तो सबका कल्याण कैसे होगा ? इसलिए नदी में जान डालकर जीवनदाई मुंसीपाल्टी का तमगा भी लेना है और ‘स्मार्ट’ भी बनना है इसीलिए मुर्दे में जान फूंकने के लिए पैसे फूंकने की तैयारी है।

#आदिल सईद

परिचय : आदिल सईद पत्रकारिता में एक दशक से लगातार सक्रिय हैं और सामाजिक मुद्दों पर इन्दौर से प्रकाशित साँध्य दैनिक पत्र में अच्छी कलम चलाते हैं। एमए,एलएलबी सहित बीजे और एमजे तक शिक्षित आदिल सईद कला समीक्षक के तौर पर जाने जाते हैं। आप मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इन्दौर में रहते हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

One thought on “मुर्दा नदी में जान डालने का जतन…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

नव वसंत..

Tue Mar 28 , 2017
नव संवत-नव भाव दे..नवदुर्गे नव शक्ति, नव रात्री की नौ निशा ..देंवे नवधा भक्ति। देवें नवधा भक्ति..राम सों नेह बढ़ाओ, निखरे शुचित चरित्र..दर्श नवमीं के पाओ। कह अनुपम आलोक..बैठ विद्वत की संगत, खुशियाँ मिलें अनंत..लाभ-शुभ दे नवसंवत।                           […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।