सांसों के कारोबार में हमको झोंक दिया

0 0
Read Time1 Minute, 7 Second

alaka jain

सांसों के कारोबार में हमको झोंक दिया

ना मां की चित्कार सुनी ना शिशु का रूदन
ना कोई प्रशिक्षण दिया ना कोई प्रशिक्षण
सांसों के कारोबार में हमको झोंक दिया
कुछ कर गुजरने की तमन्ना नहीं थी दिल मै
पेट की आग ने क्या क्या करवा लिया
रोज सजती थी महफिल रोज खनकते थे प्याले
किसी काम के नहीं हो जमाना कह रहा था
हुस्न की एक नजर ने कहानी बदल डाली
यार ने बावरे दिवााने को सयाना बना दिया
मुफलिसी जिस्म को मजबूती देती रही
मिट जायेगी जिम्मेदारीया किसी रोज
इसी आस में ज़िन्दगी गुजार गई हाय
आजकल में सांसों कारोबार खत्म हुआ
हजारों हसरतें थी इशमशन में जिंदा जल मरी
सांसों के कारोबार में हमको झोंक दिया
पंखुड़ी से चोटिल थे कांटो पर चला दिया
#अलका जैन

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सकारात्मक

Sat Oct 6 , 2018
सदा सकारात्मक सोचिए सकारात्मकता है वरदान इससे बढ़ती मिठास बहुत बढ़ता समाज में सम्मान सकारात्मकता सदराह दिखाती मंजिल को पास ले आती नहीं तनिक भी हानि इसमें यह तो है सदगुणों की खान सकारात्मक सोच का संकल्प बन जाएगा ठोस प्रकल्प यही सुख का आधार बनेगा परमात्म प्यार का सार […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।