देश के लिए

0 0
Read Time2 Minute, 54 Second

ajit sinh

इससे पहले कोई दुश्मन ,मां की छाती तक बढ जाये
फिर कोई बन्दा बैरागी पर, पागल हाथी चढ जाये
फिर कोई चौहान चूक जाये ,मूल्यों के फेरो में
और दहाडते रह जाये ,हम कागज के शेरो में
तब डर लगता है मुझको उस गौरी की गद्दारी का
आस्तीन में छिपकर बैठी ,जहरीली उस यारी का
तब याद आती मुझको हठी हम्मीर की खुद्दारी
राणा की भलमनसाहत और खिलजी की चालें सारी
फिर चौसर की चालों में,न द्रोपदी की लाज लुटे
फिर कोई अन्धा राजा न दे पाये, आश्नासन झूठे
तब मेरा ये शस्त्र उठाना ,पाप कैसे हो जायेगा
निज स्वत्व की रक्षा करना,शाप कैसे हो जायेगा
मां भारती को लुटती देख, मै मौन कैसेे हो जाउंगा
शस्त्र त्याग कर महाभारत का,द्रोण कैसे हो जाउंगा
मुझको विचलिक कर देती है ,चीखे कश्यप घाटी की
दूध का कर्ज चुकाउंगा ,है सौगंध मुझे इस माटी की
मेरे हाथो मे तो दिखती, छोटी सी एक कटारी है
जो दुश्मन ने पीछे से ,हर बार पीठ पर मारी है
डरते डरते इस दुनिया ,जीना बडा दुश्वारी है
हल्के लोगो के उपर ,बोझ वतन का भारी है
जुल्मी को जुल्मी कहने से,जीभ जहां पर डरती है
छुप छुप रोती मानवता ,दम घोंट जवानी मरती है

#अजीतसिंह चारण

परिचय: अजीतसिंह चारण का रिश्ता परम्पराओं के धनी राज्य राजस्थान से है। आपकी जन्मतिथि-४ अप्रैल १९८७ और शहर-रतनगढ़(राजस्थान)है। बीए,एमए के साथ `नेट` उत्तीर्ण होकर आपका कार्यक्षेत्र-व्याख्याता है। सामाजिक क्षेत्र में आप साहित्य लेखन एवं शिक्षा से जुड़े हुए हैं। हास्य व्यंग्य,गीत,कविता व अन्य विषयों पर आलेख भी लिखते हैं। आपकी रचनाएं पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं तो राजस्थानी गीत संग्रह में भी गीत प्रकाशित हुआ है। लेखन की वजह से आपको रामदत सांकृत्य साहित्य सम्मान सहित वाद-विवाद व निबंध प्रतियोगिताओं में राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर अनेक पुरस्कार मिले हैं। लेखन का उद्देश्य-केवल आनंद की प्रप्ति है। 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वतन से हमको भी यारा

Tue Aug 14 , 2018
वतन से हमको भी यारा, मोहब्बत है मोहब्बत है । ये जन्नत से भी ज्यादा, खूबसूरत है खूबसूरत है। यहाँ सावन की मस्ती है, यहाँ जड़ों की ठण्डक है। यहाँ बारिश की रिमझिम है, यहाँ मस्ती हर वक्त रहती है। यहाँ पंक्षी चहकते हैं, यहाँ कोयल कूकती है। यहाँ पर्वत […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।