पाक तेरी नपाक करतुत पर देश कर रहा है धिक्कार बच कर रहना जाग ना जाये युवा शक्ति का संग्राम खून दिया जिनने देश की खातिर आपना छोड़ कर घर बार हमभी बदला लेगे तुमसे ईतना तेज महा विकराल ढुंढे नहीं मिलेगे कतरे ढूंढ लेना सारा पाक तमाम भूल गये […]

जहां नेमी प्रभु पशुओं की पीर देख वैराग्य पथ चुन लेते हैं जहां राम वन में भी रहकर शाकाहारी रहते है जहां वाईवल गीता पुराण सब हिंसा के खिलाफ है फिर क्यो करते मांसाहार तुम पशुओं की पीड़ा पर दया नहीं क्या बस चोला पहना है धर्म का धर्म का […]

आम आदमी के अच्छे दिन ला दिए वो पुराने वाले दिन याद सबको दिला दिए वाह वाह मोदी जी अच्छे दिन आ गये कहते थे की कांग्रेस की सरकार खराब है बढ़ाया दाम पेट्रोल डीजल का नीयत खराब है अब स्वयं दाम दुगने तुमने बड़ा दिए वाह वाह मोदी जी………… […]

 तूफान कभी आंधी कभी वर्षाते बनके बाधाएं आयेगी तेरी मंजिल में बहुत सी इन मंजलो को तुम पार कर बाधाओ से लड़ो संकल्प कर चलो तुम पथ पर बढ़े चलो बच्चें जब चलना सीखते है सौ बार गिरते है विश्वास चलने का कभी वो कम न करते हैं तुम भी […]

द्रोपती की ईज्जत बचाई आप ने अब बेटियों की पुकार सुन चले आईये श्री कृष्ण अब इन बेटियों की ईज्जत बचाने आईये जिस बेटी को धरती का सबसे पवित्र माना गया हर कार्य का पहले शुभारंभ जिसके हाथो से किया गया आज क्यो वह लुट रही क्रुरता भरे बाजार में […]

मैं किसान के गीत लिखूंगा अपने मन की पीड़ा से, जिनके शब्द शारदे देती अपनी पावन वीणा सेl पवित्र पावन शब्दों का अपमान नहीं कर सकता मैं, छोड़ किसानों को,सत्ता का गान नहीं कर सकता मैंll  मेरी कलम नहीं झुक सकती राजाओं के वंदन में,            […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।