vindhya prakash
बचपन के घर ही अच्छे थे
बटवारे का नही बिवाद
एक साथ सब मिलकर रहते
विभाजन की नही दिवाल
खुशिया है हरएक भाग मे
नही उठा है कोई सवाल
यह घर मां की ममता का है
रहने का सबका अधिकार
विन्ध्य ने इसे महान कहा है
भाई भाई का प्रेम यहां
मानो धरा न दूसरा जहां
रहे ढूढते ऐसे घर को
जिसमे ममता समता रहती
ऐसा घर तो मिला कहां है
जिस घर मे हो सम्मान सभी का
खुशियां हो लालच न किसी का
इसको ही स्वर्ग कहा है
यह घर ही श्रेष्ठ महा है।
                #विन्ध्य प्रकाश मिश्र विप्र

About the author

(Visited 8 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/05/vindhya-prakash.pnghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2018/05/vindhya-prakash-150x150.pngmatruadminUncategorizedकाव्यभाषाbrajendra nath mishra,mishra,prakash,vindhyaबचपन के घर ही अच्छे थे बटवारे का नही बिवाद एक साथ सब मिलकर रहते विभाजन की नही दिवाल खुशिया है हरएक भाग मे नही उठा है कोई सवाल यह घर मां की ममता का है रहने का सबका अधिकार विन्ध्य ने इसे महान कहा है भाई भाई का प्रेम यहां मानो धरा न दूसरा जहां रहे ढूढते ऐसे घर...Vaicharik mahakumbh
Custom Text