पेट और रेल

2
Read Time7Seconds
cropped-cropped-finaltry002-1.png
रोज देखा करता था
उसे आते-जाते
चार चक्कों की गुड़गुड़ी पर बैठा
गंदा-सा मैला-कुचैला
रेल्वे की प्लेटफॉर्म पर,
आते-जाते राहगीरों को
घूरता रहता था…।
कभी-कभी अजीब हरकतें करता,
राहगीरों का ध्यान पाने के लिए
मांगता था वो कभी-कभी कुछ,
पेट की आग बुझाने के लिए।
प्लेटफॉर्म पर खड़ी रेलगाड़ी,
के आरक्षण के डिब्बे में
बैठा था कोई शरीफ-
सा दिखनेवाला आदमी,
कुछ अलसाया-सा
कुछ परेशान
उसी परेशानी में…
एक चमकीला डिब्बा खोला उसने,
कुछ खाने चीजें होंगी शायद
आंखें बता रही थी,उसकी
जैसे ही उसने वह खाने की चीज
मुंह में रखी,कड़वा-सा मुंह बनाया,
थूक दिया तुरंत प्लेटफॉर्म पर
बावजूद पढ़ने के
‘स्वच्छ भारत मिशन’
की दर्शनी तख्ती को।
उसी चीज को भी देखा
उसने,पूरी ज़ोर से,
अपनी चार चक्कों वाली
गुड़गुड़ी को दौड़ाया,
और एक ही पल में
लपक ली खिड़की से
बाहर थूकी हुई
वो खाने की चीज।
फिर अपनी मैली-सी फटी-पुरानी
शर्ट से उसे साफ करके,
वो बड़ी-बड़ी खुशी से गटक गया
तभी रेलगाड़ी और
वो रेंगने लगे…
अपने-अपने गंतव्य की ओर…॥

#संजय वासनिक ‘वासु’

परिचय : संजय वासनिक का साहित्यिक उपनाम-वासु है। आपकी जन्मतिथि-१८ अक्तूबर १९६४ और जन्म स्थान-नागपुर हैl वर्तमान में आपका निवास मुंबई के चेंबूर में हैl महाराष्ट्र राज्य के मुंबई शहर से सम्बन्ध रखने वाले श्री वासनिक की शिक्षा-अभियांत्रिकी है।आपका कार्यक्षेत्र-रसायन और उर्वरक इकाई(चेम्बूर) में है,तो सामाजिक क्षेत्र में समाज के निचले तबके के लिए कार्य करते हैं। इकाई की पत्रिका में आपकी कविताएं छपी हैं। सम्मान की बात करें तो महाविद्यालय जीवन में सर्वोत्कृष्ट कलाकार-नाटक सहित सर्वोत्कृष्ट-लेख से विभूषित हैं। आपके लेखन का उद्देश्य-शौकिया ही है।

0 0

matruadmin

2 thoughts on “पेट और रेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पुकार 

Wed Dec 20 , 2017
सुन लो मातु पुकार,दया बरसाने वाली। कभी शारदे मातु,कभी हो दुर्गा-काली॥ खड्ग गदा कर चक्र,सुशोभित वीणा-पुस्तक। मानवता रक्षार्थ,काट लेती अरि मस्तक॥ सकल गुणों की खान,सृष्टि की रचनाकारा। उद्भव अरु संहार,चराचर त्रिभुवन सारा॥ दुष्टों का कर नाश,धर्म अपनाना होगा। अवध न जाए हार,अवधपति ! आना होगा॥           […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।