सोनिया गांधी और राहुल गांधी को पत्र

Read Time9Seconds

cropped-cropped-finaltry002-1.png

आदरणीया सोनिया गांधी जी और राहुल गांधी जी,

जैसा कि आप जानते हैं पिछले कुछ सालों से देश बुरे दौर से गुज़र रहा हैl नोटबंदी और जीएसटी की वजह से काम-धंधे बंद हो गए हैंl  लगातार बढ़ती महंगाई से अवाम का जीना दुश्वार हो गया हैl ऐसी हालत में अवाम को कांग्रेस से बहुत उम्मीदें हैं,लेकिन ईवीएम की वजह से अवाम परेशान हैl उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव के दौरान ऐसे मामले सामने आए हैं,जब मतदाताओं ने मत कांग्रेस को दिया है, लेकिन वह किसी अन्य दल के खाते में गया हैl इस मामले में कहा जा रहा है कि मशीन ख़राब हैl माना कि मशीन ख़राब है,तो फिर सभी मत किसी ’विशेष दल’ के खाते में ही क्यों जा रहे हैं? साल के शुरू में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान भी ऐसे मामले सामने आए थेl किसी विशेष दल के खाते में मत जाने के मसले को लेकर जहां दल का कार्यकर्ता परेशान है,वहीं मतदाता भी कशमकश में हैंl

 जैसा कि आप जानते हैं,लोकतंत्र यानी जनतंत्र,जनतंत्र इसलिए क्योंकि इसे जनता चुनती हैl लोकतंत्र में चुनाव का बहुत महत्व है  और निष्पक्ष मतदान लोकतंत्र की बुनियाद हैl यह बुनियाद जितनी मज़बूत होगी,लोकतंत्र भी उतना ही सशक्त और शक्तिशाली होगाl  अगर यह बुनियाद हिल जाए,तो लोकतंत्र की दीवारों को दरकने में देर नहीं लगेगीl

देश की आज़ादी के बाद निरंतर चुनाव सुधार किए गएl मसलन मतदाता की उम्र घटाकर कम की गई,जनमानस ख़ासकर युवाओं और महिलाओं को मतदान के लिए प्रोत्साहित किया गयाl इन सबसे बढ़कर मत-पत्र के इस्तेमाल की बजाय इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) द्वारा मतदान कराया जाने लगाl इससे जहां वक़्त की बचत हुई,मेहनत की बचत हुई,वहीं धन की भी बचत हुईl इतना ही नहीं,मतपेटियां लूटे जाने की घटनाओं से भी राहत मिली,लेकिन अफ़सोस की बात ये है कि ईवीएम की वजह से चुनाव में धांधली कम होने की बजाय और बढ़ ज़्यादा गईl पिछले काफ़ी वक़्त से चुनाव में ईवीएम से छेड़छाड़ के मामले लगातार सामने आ रहे हैंl  इस तरह की ख़बरें देखने-सुनने को मिल रही हैं कि,बटन किसी एक दल के पक्ष में दबाया जाता है और मत किसी दूसरे दल के खाते में चला जाता हैl इसके अलावा जितने लोगों ने मतदान किया है, मशीन उससे कई गुना ज़्यादा मत दिखा रही हैl

 जीत और हार,धूप और छांव की तरह हुआ करती हैंl वक़्त कभी एक जैसा नहीं रहताl देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस बेशक आज केन्द्र की सत्ता में नहीं है,लेकिन इसके बावजूद वह देश की माटी में रची-बसी हैl देश का मिज़ाज हमेशा कांग्रेस के साथ रहा है और आगे भी रहेगाl जनता कांग्रेस के साथ खड़ी है,लेकिन उसे ईवीएम पर यक़ीन नहीं हैl उसे भरोसा नहीं कि उसका कांग्रेस को दिया मत कांग्रेस के पक्ष में जाएगा भी या नहीं,इसलिए आपसे अनुरोध है कि आप चुनाव आयोग से मांग करें कि,वह चुनाव ईवीएम की बजाय मत-पत्र के ज़रिए कराए,क्योंकि ईवीएम से अवाम का यक़ीन उठ चुका हैl

                                       आपकी शुभाकांक्षी 

                                       फ़िरदौस ख़ान

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बेवफ़ाई

Sat Nov 25 , 2017
रोया तो मैं बहुत जी भर के रोया, जब वफ़ा के बदले दगा पाया। क्या कमी थी मेरे प्यार में, जो तुमने इस कदर दग़ा दे दिया। तेरी चाहत में पलकें बिछाए बैठे हैं, तेरे प्यार में दुनिया से नाता तोड़ बैठे हैं। हर पल सिर्फ तेरा ही इंतज़ार रहता […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।