क्यूं ललचाती हो

Read Time2Seconds
prabhat dube
रत्न विभूषित छम-छम करके,इतना क्यूं  ललचाती हो।
मेरे वश में नहीं हो फिर भी,मुझको क्यूं पास बुलाती हो॥
मैं गँवार जो गाँव का ठहरा,तेरी कीमत क्या जानूं।
जो कहते फिरते हैं सब वो,मैं तो बस उतना मानूं॥
मैं छल से तुझे नहीं चाहता,सच्चाई से आओगी।
पता नहीं आओगी या भी, या सपने खूब दिखाओगी॥
रत्न विभूषित छम-छम करके,इतना क्यूं ललचाती हो।
मेरे वश में नहीं हो फिर भी,मुझको क्यूं पास बुलाती हो॥
सुंदर इतनी लगती मुझको,तड़प-तड़प  रह जाता हूँ।
सोते-जागते खोजता फिरता,भागा-भागा जाता हूँ॥
पास खड़ा हूँ तुझे जानकर,प्यार मुझे कर पाओगी।
कर भी लो तुम दया जानकर,क्या साथ मेरा दे पाओगी॥
रत्न विभूषित छम-छम करके,इतना क्यूं ललचाती हो।
मेरे वश में नहीं हो फिर भी,मुझको क्यूं  पास बुलाती हो॥
गाँव छोड़कर शहर में भागा,तुझे पाने की थी आशा।
हुआ हकीकत से सामना, टूट चुकी मेरी अभिलाषा॥
तू तो बस किस्मत से मिलती,मुझ गरीब के खाते में।
या कोई बेफिक्र चल पड़ा,मिल जाती हो जाते-जाते में॥
रत्न विभूषित छम-छम करके,इतना क्यूं  ललचाती हो।
मेरे वश में नहीं हो फिर भी,मुझको क्यूं
पास बुलाती हो॥
इंसान तेरे वो रंग राज को,कभी समझ नहीं पाएगा।
अपना सब कुछ खोकर भी,मातंग जैसा भागेगा॥
समझ चुका तेरी माया को,माफ करो अब मुझे सुंदरी।
चाहे तुझे कोई कुछ भी समझे,मैं समझ चुका हूँ फिर भी पूरी॥
रत्न विभूषित छम-छम करके,इतना  क्यूं ललचाती हो।
मेरे वश में नही हो फिर भी,मुझको क्यूं
पास बुलाती हो।

                                                                 #प्रभात कुमार दुबे 

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पहेली उम्र की

Thu Oct 12 , 2017
नादान,नासमझ,अठखेली-सी होती है, यारों उम्र बड़ी ही अजीब पहेली होती है। बचपन में बड़े होने का सोचते हैं, बड़े जब हुए तो बचपन याद करते हैं। जवानी में बुढ़ापे के सपने संजोते हैं, बुढ़ापे में जवानी के दिन याद करते हैं। समझ आने पर भगवान पर हंसते हैं, जब जरूरत […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।