माँ

2
0 0
Read Time2 Minute, 55 Second
vasundhara
मानव विकास का सुंदर अवतार नारी,
दिव्य छवि मिटाती  है अंधकार नारी।
भीतर  प्रभु  शिशु  बन  आए देखो,
वक्ष अमृत बना  पी ली ममता  सारी।
धैर्य, विश्वास विष भावों की अंतर्यामी
निम्न पुरूष करता तुम  पर मनमानी।
छिन्न-भिन्न  बिखरती   नहीं   पलों में,
तपकर बनाती साधन रिश्तों  की रानी।
प्रेम  भाव  की  सुख  प्रतिमा  माँ,
शीतल स्पर्श दुःख हरती महिमा माँ।
माँ कोख जीवन की प्रथम पाठशाला,
घनी कालिमा में संवारती  गरिमा माँ।
निराश हूं अगर भर आंलिगन भींचती,
अस्तित्व  मिट्टी-सा  लहू   से  सींचती।
जलनिधि  तल  में  खिल  ना पाती,
हूँ  कमल माँ  तुमने  बनाया  कीमती।
बैठी जो तुम्हारे आंचल अहसास करा,
व्यथित हृदय  से तारकर विश्वास भरा।
दुःख  आंधी   पीड़ा  लहर  उठे   कैसे,
माँ   वसुंधरा  का  प्रेम  देख  जरा॥

                                                                   #वसुंधरा राय

परिचय : वसुंधरा राय ने समाजशास्त्र  में एम.ए. और पत्रकारिता मास्टर डिप्लोमा (मुम्बई ) की शिक्षा हासिल की है l आपका बसेरा  महाराष्ट्र के नागपुर में क्लार्क टाऊन(कड़वी चौक के पास) में है l २००८ में राष्ट्रीय हिन्दी पत्रिका में रूपक लेखक का कार्य अनुभव है,और वर्तमान में अनेक पत्र-पत्रिकाओं में लेखन जारी हैl आप छंदमुक्त कविता,लघुकथा,दोहा छंद,आध्यात्मिक, राजनीतिक,सामाजिक विषयों पर लेखने के साथ ही वर्तमान में सामाजिक सेवाओं में भी संलग्न हैं l विश्वनाथ राय बहुउद्देशीय संस्था `शब्द सुगंध` की संस्थापक व अध्यक्ष हैं तो,अॉल इंडिया रेडियो पर विषय वक्ता के साथ ही मंच संचालिका भी हैं l आपकी लघुकथाओं की दो पुस्तक २०१७ में प्रकाशित होने वाली हैं। आपको सम्मान के रूप में अर्णव काव्य रत्न अलंकार,व्रत प्रतिष्ठान सम्मान,हाइकु मंजूषा रत्न सम्मान सहित राज्य स्तरीय हाइकु सम्मान तथा साहित्यिक सृजन सम्मान भी मिला है l हाइकु विशेषांक,मेरी सांसें तेरा जीवन,हाइकु संग्रह आदि साझा प्रकाशित पुस्तकें हैंl मंच पर कविता पाठ और गायन भी आप करती हैं। 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

2 thoughts on “माँ

  1. माँ,
    वसुंधरा राय की लिखी यह कविता अत्यंत सुंदर और रचनाकार के हृदय के भावों को प्रकट करने में पूर्णतयाः सफल रही है। साधुवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

यादें बचपन की...

Sat Aug 19 , 2017
कम्बख्त ये ज़िन्दगी भी कितने दर्द देती है, कभी भूले तो कभी बिछड़े देती है।     बचपन में यारों की पीठ पीछे खिलौने देती थी, अब तो पीठ पीछे यारों के हाथों में ख़ंजर देती है।     बचपन में गुड्डे-गुड़ियों की शादी में नाचते थे, अब तो मालिक […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।