‘बादशाहो’ से ग्रहण ख़त्म होने की उम्मीद…

Read Time4Seconds
edris 
पूर्वावलोकन………
अजय देवगन अभिनीत और मिलन लुथरिया निर्देशित फिल्म ‘बादशाहो’ १ सितम्बर को प्रदर्शित होगी। विवाद से बचने के लिए निर्देशक फ़िल्म को काल्पनिक घटना बता रहे जबकि, अफवाहों की मानें तो १९७५ में आपातकाल के ठीक पहले इंदिरा गांधी (तात्कालिक प्रधानमंत्री थी) ने राजस्थान की रियासत आमेर की रानी गायत्री देवी के महल पर ऑपरेशन चलाया था। इसके पीछे ऐतिहासिक मिथक था कि, अकबर के सेनापति राजा मानसिंह जो कि अफगानिस्तान से जीत कर खज़ाना लाए थे,का कुछ हिस्सा यहां छुपाया था। खजाना खोजने का जो अभियान चलाया था,इसमें उनके पुत्र संजय गांधी भी शरीक थे। पूरे शहर में ७ दिन का कर्फ्यू लगाकर खजाना निकालकर दिल्ली लाया गया और जहाज में लादकर विदेश भेज दिया गया। रानी गायत्री देवी ३ बार जीती सांसद और इंदिरा गांधी की घोर विरोधी भी थीं। इसी घटना को इस फ़िल्म में दिखाया गया है।
IMG-20170816-WA0030
खैर फ़िल्म पर आ जाते हैं। मिलन की फिल्में-दीवार, डर्टी पिक्चर्स, कच्चे धागे, वन्स अपॉन ए टाइम इन मुम्बई १/२ और चोरी-चोरी आप देख चुके हैं।
इस फ़िल्म में अजय के साथ विद्युत जामवाल का होना एक्शन का वादा है। साथ में इमरान हाशमी का होना प्रेम की तो सनी लियोनी का आइटम सॉन्ग ‘आवारा-आवारा…’ देखते ही बन रहा है
फिल्म ‘बादशाहो’ में ऐश का भी केमियो है। अजय के साथ इलियाना डिक्रूज, इमरान हाशमी,विद्युत जामवाल,ईशा गुप्ता,संजय मिश्रा,राजपाल यादव
भी हैं। ये फिल्म एक्शन,रोमांस प्रेम और थ्रिलर से भरपूर है।
बॉलीवुड में ‘दंगल’ तथा ‘बाहुबली २’ के बाद से बड़ी फिल्मों को सफलता का ग्रहण लग गया है,जो शायद ‘बादशाहो’ से खत्म हो।

                                                              #इदरीस खत्री

परिचय : इदरीस खत्री इंदौर के अभिनय जगत में 1993 से सतत रंगकर्म में सक्रिय हैं इसलिए किसी परिचय यही है कि,इन्होंने लगभग 130 नाटक और 1000 से ज्यादा शो में काम किया है। 11 बार राष्ट्रीय प्रतिनिधित्व नाट्य निर्देशक के रूप में लगभग 35 कार्यशालाएं,10 लघु फिल्म और 3 हिन्दी फीचर फिल्म भी इनके खाते में है। आपने एलएलएम सहित एमबीए भी किया है। इंदौर में ही रहकर अभिनय प्रशिक्षण देते हैं। 10 साल से नेपथ्य नाट्य समूह में मुम्बई,गोवा और इंदौर में अभिनय अकादमी में लगातार अभिनय प्रशिक्षण दे रहे श्री खत्री धारावाहिकों और फिल्म लेखन में सतत कार्यरत हैं।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बनो फिर लक्ष्मीबाई

Thu Aug 17 , 2017
बनो फिर लक्ष्मीबाई तुम झुका आकाश को डालो। जरा सूरज के मुंह  पर भी, नए प्रकाश को डालो॥ उठा लो फिर से तलवारें, सुनो  ए  देश की नारी। जुल्म करने ही वालों के, बदल इतिहास को डालो॥                           […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।