छवि की जुबानी

0 0
Read Time4 Minute, 50 Second
shailshree
(मंच खुलते ही एक लड़का और छोटी -सी गुड़िया मंच पर आते हैं। लड़के का नाम राजू है,और गुड़िया उसकी बहन जया है।)
राजू-अरे बहना! तुम अभी तक तैयार नहीं हुई ? ये देखो मैं तैयार हो गया।
जया-एक मिनट भाई,तैयार होकर आ रही हूं।
(बहन तैयार होकर आती है,और भैया उसे उस जगह पर ले आता है जहां स्वातंत्र्य पर्व मनाया जा रहा है।)
राजू-यहां आओ मेरी प्यारी बहना,यह देखो(चित्र दिखाते हुए),यह हमारा भारत का नक्शा है,जिसके सभी ओर मोमबत्तियां जलाकर जयहिन्द को रंगोली से लिखकर उस पर केसरिया , सफेद और हरे, नीले रंगों से सजाए गए हैं। देखो बहना।
जया-वाहहह, क्या आकर्षक चित्र है।भैया मुझे तो यह चित्र बहुत अच्छा लग रहा है। सब जगह पर जल रही मोमबत्तियां हर तरफ प्रकाश फैला रही है।
राजू-हां जया।
जया-भैया वहां पर जो जय हिन्द लिखा है,उसका अर्थ क्या है ?
राजू-अभी बताता हूं। जय हिन्द यानि, हिन्दुस्तान की जय हो, हिन्दवासियों की जय हो। हमारा प्यारा भारत ही है। हिन्दुस्तानवासी सभी एक हैं, यहां न जाति प्रमुख है,न ऊंच-नीच। सभी समान होने वाले इस हिन्दुस्तान की धरती की जय हो। यही उसका सच्चा अर्थ है।
जया-भारत का नक्शा और जय हिन्द शब्द पर तीन-चार रंगों से रंगोली सजी हुई है। उन्हीं रंगों का उपयोग क्यों किया गया है ? बाकी रंग भी डाल सकते थे-जैसे लाल,गुलाबी,काला..।
राजू-हां बहना। अलग रंग भी डाल सकते थे,पर इन रंगों का उपयोग ही अच्छा है। इसका भी एक इतिहास है। इनमें जिन रंगों का इस्तेमाल किया गया है,वे हमारे राष्ट्रध्वज के रंग हैं। सबसे ऊपर केसरिया और बीच में सफेद, सबसे नीचे हरा। और बीच में चौबीस तानों का एक चक्र है,जिसे हम अशोक चक्र कहते हैं। वह नीले रंग में है,इसलिए आज जय हिन्द और भारत के नक्शे को भी उन्हीं रंगों से सजाया गया है। समझी।
जया-हां भैया,समझ गई। हां,राष्ट्रध्वज में रहे तीन रंगों की विशेषता क्या है ??
राजू-सुनो, सबसे ऊपर जो केसरिया रंग है वह त्याग और वीरता का प्रतीक है। बीच का सफेद रंग शांति का प्रतीक तो हरा अभिवृद्धि यानि प्रगति का प्रतीक है।
जया-आप तो बहुत कुछ जानते हैं भैया। अरे! ये क्या ये सभी लोग इस छवि से हटकर उस तरफ क्यों जा रहे हैं ? वहां पर उस स्तंभ के ऊपर कुछ बांधा है शायद!
राजू-वह ध्वज स्तंभ है बहना। उसके सबसे ऊपर के छोर पर ध्वज का कपड़ा बांधकर रखा है। अभी थोड़ी ही देर में कोई नेता या महान हस्तियां आकर ध्वजारोहण करेंगे। तब झंडा खूब लहराएगा। झंडा फहराते ही राष्ट्रीय गान शुरू होगा, इसलिए मैं तुम्हें यहां यह सब दिखाने के लिए लाया हूं।
जया-मैं आज बहुत खुश हूं भैया। आपने आज बहुत विषयों के बारे में जानकारी दी।
राजू-अरे वहां देखो। सब झंडे वाली जगह में एकत्रित हो गए। चलो हम भी चलते हैं। इस अभूतपूर्व कार्यक्रम में भाग लेना हमारा परम सौभाग्य है। और हमारा प्रथम कर्तव्य भी।
जया-हां भैया, मैं भी एक अच्छी नागरिक बनकर देश की प्रगति के मार्ग पर चलूंगी। देश और देश के चिन्हों का मान रखूंगी। ठीक है, चलो भैया चलते हैं।
(दोनों ध्वज स्तंभ के पास जाते हैं,और परदा गिरता है।)
                                                                 #शैलश्री आलूर ‘श्लेषा’
परिचय : डॉ.शैलश्री आलूर का  काव्यनाम ‘श्लेषा’ है। प्रारम्भिक शिक्षा के बाद एमए,बीएड और एम.फिल. करके पीएचडी की है। निवास कर्नाटक राज्य के बादामी नगर (जिला बागलकोट) में है। लेखन के लिए आपके पिता श्री शनमुखप्पा ही आपकि प्रेरणा और हिम्मत हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मैं हूँ रखवाला

Wed Aug 16 , 2017
माँ हूँ मैं तेरी धरती का, मैं हूँ तेरा रखवाला। आज नहीं हूँ सोती ज्योति, आज हूँ धधकती ज्वाला। माँ हूँ मैं तेरी धरती का, मैं हूँ तेरा रखवाला। कोई तेरे ऊपर आँख उठाए, ये तो मुझे बर्दाश्त नहीं माँ। जिंदगी मेरी खास है मगर, तेरे लिए मर मिटने पर, […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।