ठहर जाओ न..

1
Read Time0Seconds

harpreet
सुनो कुछ और वक़्त ठहर जाओ न,
कुछ बाकी-सा है दिल में ठहर जाओ न…।

न जाने कितने दबे अरमान उफ़ान पे हैं,
और न जाने कितने सैलाब दबे से हैं..
खुद में समेटने के लिए ही सही,
ठहर जाओ न…।

तुम आते हो,आते ही चले जाते हो,
मैं रोक भी नहीं पाती,तुम ओझल हो जाते हो..
मेरी साँसों में उतरने के लिए
ठहर जाओ न…।

तेरे बिना ज़िन्दगी क्या होगी,
ये सोचकर सहम जाती हूं
संभलती हूं, फिर बिखर जाती हूं,
ज्यादा नहीं, कुछ हक़ देने के लिए ही ठहर जाओ न…।

देखो मेरी मुस्कान पर न जाया करो,
दिल के बिखरे हुए कमरे में भी
कभी आया करो,
जर्जर कमरे की खैरियत के लिए
ठहर जाओ न…।

तुम्हारे बिना सब फ़ना-सा हो जाएगा,
कुछ वक्त और ठहर जाओ न…॥

                                                                                        #हरप्रीत कौर

परिचय : मध्यप्रदेश के इंदौर में ही रहने वाली हरप्रीत कौर कॊ लेखन और समाजसेवा का बेहद शौक है।आपने   स्नातकोत्तर की पढ़ाई समाजकार्य में ही की है। कई एनजीओ के साथ मैदानी काम भी किया है। आपकी उपलब्धि यही है कि,2015 में महिला दिवस पर इंदौर की 100 महिलाओं में इन्हें भी समाजकार्य हेतु सम्मानित किया गया है। आप वर्तमान में महिला हिंसा के विरुद्ध कार्यरत हैं तो,कौशल विकास कार्यकम तथा जनजागरूकता के  कार्यों से भी जुड़ी हुई हैं।

0 0

matruadmin

One thought on “ठहर जाओ न..

  1. Harpreet Kaur has a great creativity of semantic, rythem and selection of words in her poems. My compliments. Keep it up. God bless you.
    Dr. Naresh Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

यूँ आना रहेगा.

Fri Jun 30 , 2017
ये सिक्का हमारा तो चलता रहेगा। वो मौसम वफा का तो आता रहेगा॥ तुझे ही खुदा से माँगा था सभी ने। पता है हमें भी तू आता रहेगा॥ तिरे प्यार की खुशबू आती है उड़कर। वफा के लिए फिर यूँ आना रहेगा॥ शक की नजर से ये दुनिया यूँ देखे। […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।