देशभर में एक अलग पहचान बना चुकी है संस्था- बृजलोक अकादमी

0 0
Read Time3 Minute, 16 Second

आगरा । साहित्यिक संस्था – बृजलोक साहित्य, कला, संस्कृति अकादमी के सौजन्य से पावनपर्व गुरु पूर्णिमा के पावन अवसर पर एक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया । संस्था को देशभर से सम्मानार्थ प्रविष्टियां प्राप्त हुई थीं। प्रविष्ठियां ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों माध्यमों से स्वीकार की गई थीं। सभी प्रविष्टि भेजने वाले सम्मानित कलमकारों को प्रशस्ति पत्र व संस्था परिचय पत्र ससम्मान पंजीकृत डाक व कोरियर से प्रेषित किए गए हैं ।

संस्था के पदाधिकारियों द्वारा चुने गए विशिष्ट कलमकारों को सत साहित्य भी प्रेषित / प्रदान किया गया है । सम्मानित होने वाले साहित्यकार हैं –

डा. पीसी कौंडल (हिमाचल प्रदेश), डॉ. सत्यनारायण चौधरी (राजस्थान), डॉ.कृष्णमणि चतुर्वेदी मैत्रेय ( उत्तर प्रदेश), डॉ.आनन्द सुमन ( उत्तराखंड), डॉ.नवीन शंकर पाण्डेय ( उत्तर प्रदेश), दिनेश परुथी (महाराष्ट्र), रामनारायण साहू राज (छत्तीसगढ़), अनिल द्विवेदी तपन (उत्तर प्रदेश), सेवा सदन प्रसाद (महाराष्ट्र), डॉ. नीलाचल मिश्रा (उड़ीसा), विजयानंद विजय (बिहार), डॉ. शकुंतला देवी राणा (हिमाचल प्रदेश), राजू कुमार राजवीर (छत्तीसगढ़), नंदलाल मणि त्रिपाठी पीतांबर (उत्तर प्रदेश), श्रीमती आशा सिंह (उत्तर प्रदेश), डॉ. सुरेंद्र प्रताप सिंह (उत्तर प्रदेश), डॉ. सिकंदर लाल (उत्तर प्रदेश) आदि ।

बृजलोक साहित्य, कला, संस्कृति अकादमी द्वारा आयोजित यह वर्ष 2021 का तृतीय कार्यक्रम था । आगामी कार्यक्रम पावन पर्व दीपावली पर आयोजित होगा और वर्ष का अंतिम कार्यक्रम रहेगा । उक्त कार्यक्रम के लिए देशभर से प्रविष्टियां स्वीकार की जा रही हैं । संस्था अध्यक्ष – मुकेश कुमार ऋषि वर्मा ने यह जानकारी प्रदान की । ग्रामीण क्षेत्र से संचालित व एक ऐसे गांव से जो प्रत्येक दृष्टि से पिछड़ा है, संस्था का संचालन काफी कठिन कार्य है। साहित्यिक गतिविधियों के नियमित संचालन के लिए ही ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है, क्योंकि संस्था के पास संसाधनों का अभाव है । परंतु संतुष्टि का विषय है कि आज संस्था ने देश भर में अपनी एक अलग पहचान बनाई है ।

  • कार्यकारी अध्यक्ष

matruadmin

Next Post

कवि सुनील चौरसिया 'सावन' पर बनी डॉक्यूमेंट्री फिल्म

Wed Jul 28 , 2021
हिन्दी फिल्म जगत के सुपरस्टार राजेश खन्ना ने अपनी फिल्म ‘आनन्द’ में एक मशहूर डायलॉग बोला था, “जिंदगी बड़ी होनी चाहिए लंबी नहीं….।” इसी सिद्धांत पर चलने वाले कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ ने अपनी छोटी सी उम्र में जो सदाबहार जीवन जिया है उस पर ‘दस्तक साहित्य संसार’ ने एक […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।