रोशनी को ढूँढता है

0 0
Read Time1 Minute, 30 Second

लगता है हमारा आपका
साथ बस यही तक था।
आप अपने आप को
बहुत व्यस्त समझते हो।
और सामने वाले को
अपने से कम समझते हो।
जबकि सामने वाला व्यस्त
होते हुये भी दोस्तो से मिलता है।
हमारी और तुम्हारी सोच में
यही बहुत बड़ा फर्क है।
इसलिए दोस्त आप मस्त रहो
और मुझे मेरे हाल पर छोड़ दो।।

अपने आपको तुम कभी
दुसरो के लिए जी कर देखो।
अपने काम का जिक्र इतना
न करो की समाने वाला।
अपने आपको खुद शर्मीदा
अपनी ही नजरो में समझे।
जबकि वो मिलने मिलाने में
अपनी जिंदगी को जीता है।
खुद खुश रहता है और
औरों को भी खुश करता है।
ऐसे इंसान को समाज और
आप क्या कहते हो आप जनो।।

हर किसी को इंसान खुश
इस जमाने में कर नहीं सकता।
घाव जो दिल पर लगे उसे
समय से पहले भर नहीं सकता।
लाख चापलूसी करे वो इंसान पर
सामने वाले के दिलको पड़ लेता है।
और फिर अपनी जिंदगी को वो
फिरसे अपने अनुसार जीता हैं।
छोड़ देता है साथ ऐसे लोगों का
जो खुदके सिवाए औरों के नहीं।
इसलिए तो कवि लेखक सदा ही
अंधेरो में रोशनी की किरण ढूँढता है।।

जय जिनेंद्र देव
संजय जैन “बीना” मुंबई

matruadmin

Next Post

प्यार जब इश्क बन जाता है

Sat Jun 26 , 2021
कहते हैं प्यार एक बला है जमाना इस बला को गले लगाता क्यों हैं ? प्यार की एक नजर कैसे छू जाती है नजर को अजनबी- अनजाने से बावरे बन क्यों जीने लगते हैं एक संग ? प्यार जब इश्क बन जाता है तब रुहें एक हो जाती है एहसास […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।