मीडिया से खफा कोरोना

0 0
Read Time5 Minute, 3 Second

बाबा बोतलदास आज पूरी तरह कोरोना के कारण मीडियाकर्मियों की मौत पर चर्चा
करने के मूड में थे। सड़क पर मिलते ही सबसे पहले मुझसे पूछा ठीक तो हो।
मैंने कहा ऐसा क्यों पूछ रहे हैं ? रोज तो मुलाकात होती है और भला चंगा
नजर आता हं। वे बोले- भला चंगा तो प्रत्येक मीडियाकर्मी मुझे नजर आता है।
इसीलिए तो कभी सरकार से कोरोना वारियर घोषित करने की मांग करता है तो कभी
बीमा कराने की।

आगे उन्होंने कहा अखबारों में खबर आयी है कि अपने शहर में इस साल सबसे
ज्यादा मौत मीडियाकर्मियों की हुई है। इसलिए मुझे तेरी भी चिंता हो रही
थी। इसलिए पूछा कि तुम तो ठीक हो न ? आगे कहा-मुझे लगता है कि इस साल
कोरोना सबसे ज्यादा खफा मीडियाकर्मियों से है। इसलिए वह उन्हें दुलत्ती
मार रहा है। दुलत्ती खाकर जो मीडियाकर्मी बच गया तो समझो बच गया। नहीं तो
उन्हें श्रद्धांजलि देने वाले नेताओं और छुटभैयों की कमी नहीं है। वे
जानते हैं आपदा में अवसर की तलाश करना। उधर किसी मीडियाकर्मी की कोरोना
से मौत हुई नहीं कि मीडिया के दफतर में शोक व्यक्त करने वाली
विज्ञप्तियों की लाइन लग जाती है।

मैंने कहा मीडियाकर्मियों से कोरोना खफा क्यों होने जा रहा ? वे बोले
पिछले साल जब कोरोना हवाई जहाज पर चढ़कर आया था और तबलीगी जमात पर उसे
लाने का आरोप लगा था तब तो कोरोना ने किसी मीडियाकर्मी को दुलत्ती नहीं
मारा। इस साल क्यों मार रहा है। इससे पता चलाता है कि वह सबसे ज्यादा
मीडिया वालों से ही खफा है। कोरोना जानता है कि मीडिया वाले ही उसके बारे
में झूठी या सच्ची खबरें फैलते हैं। वे ही लोगों को बताते हैं कि आज
कोरोना का क्या रुख रहा है। किसी मुहल्ले में कोरोना के कारण कितने लोगों
की मौत हुई और कौन-कौन कितना कोरोना पाजिटिव हुआ। अब तो मीडिया वाले ही
लोगों को बता रहे हैं कि कोरोना की तीसरी लहर आने वाली है। इससे तो
कोरोना मीडिया वालों पर भड़केगा ही। मीडिया के लोग यह भी खबरें ला रहे हैं
कि कोरोना आंखों पर भी प्रहार कर रहा है।

उनकी सुनने के बाद मैंने उनसे कहा लगता है आपकी खोपड़ी में नेताओं की
खोपड़ी समा गयी है। जिस तरह से नेता लोग अपने दोष का सारा ठीकरा मीडिया पर
फोड़ देते हैं उसी प्रकार आप भी कोरोना संक्रमण का पूरा दोष
मीडियाकर्मियों के माथे मढ़ देना चाहते हैं।

वे बोले कोरोना अब एक साल का हो गया है। उसे इतनी अकल तो हो ही गयी है कि
कौन उसका दोस्त है और कौन उसका दुश्मन। कोरोना जानता है कि कुंभ में जाने
से उसे बाबाओं का खतरा है। इसलिए वह कुंभ में नहीं जाता। वह यह भी जानता
है कि कुंभ में पहाड़ की गुफाओं से बाबा लोग आते हैं न जाने कौन सा श्राप
दे दें। इसलिए वह कुंभ से दूर रहा। वे आगे बोले कोरोना यह भी जानता है कि
चुनावी रैली में जाने की उसकी अभी उम्र नहीं हुई है। इसलिए जिन राज्यों
में चुनाव हुए वहां कोरोना नहीं गया। अगर गया भी तो नेताओं के भाषण सुना
नहीं। क्यों कि वह जानता है कि अभी उसकी वोट देने की उम्र हुई नहीं है तो
वह क्यों वहां जाये। आगे वे बोले कोरोना थाने में भी नहीं जाता। इसलिए तो
एक पुलिस जीप पर सवार होकर कई पुलिस वाले चलते हैं और लोगों को लाकडाउन
के नियमों का पालन करने की नसीहत देते हैं। बाबा ने कहा कोरोना पढ़ना
चाहता है तो स्कूल वाले उसके कारण स्कूल ही बंद कर देते हैं तो वह सड़कों
पर इधर-उधर मंडराता फिरता है। इस दौरान सबसे ज्यादा उसे मीडियाकर्मी ही
नजर आते हैं जिसे वह आसानी से अपना शिकार बना लेता है।

मैं उनकी बातो को सुनने के बाद उनसे विदा लिया और आगे बढ़ गया।

नवेन्दु उन्मेष
रांची (झारखंड)

matruadmin

Next Post

वो गुज़रे दिन

Tue May 11 , 2021
ज़माने की हवा बदल रही हर दिन, कहाँ चले गये अब वो बहार के दिन, ख़त्म हो चला इंसानियत का दौर , हर तरफ़ आँसू दर्द शोर ईद के दिन । चाँद , सूरज, हवा सब ग़मगीन है, कौन खुश है इस बार ईद के दिन । हर तरफ़ है […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।