दर्द का रिश्ता

Read Time6Seconds
rajlaxmi
   वो पंजाबी लड़की थी, ऊँची पूरी
तेजतर्रार और नामी लेखिका भी। शादी हुई,बच्चे भी हुए,किंतु अलगाव हो गया।
    बच्चे बड़े हो गए तो वह अकेली हो गई। घर का सारा काम उसे ही करना
पड़ता। एक दिन बाजार से सामान लाते
समय उसकी स्कूटी बंद हो गई। अब
क्या करे,तभी एक युवक उसके पास
आया। उसने स्कूटी ठीक कर दी।
‘क्या आप मुझे घर तक छोड़ देंगे। आज सुबह से ही चक्कर आ रहे हैं।
‘जी बिलकुल।’
वह युवक घर  छोड़ने आया तो पता चला दवाइयाँ लेना तो भूल ही गई। उसी ने दवाई  भी ला दी।
अब तो यह रोज का क्रम था। कार्यालय के बाद सीधा आता। साथ-साथ चाय पीते।
‘मैं अकेला हूँ, मैंने  शादी नहीं  की।’
वह बहुत परेशान था। उसका मकान मालिक घर खाली करने को
कह रहा था। उनकी बेटी की शादी थी।
‘ऊपर एक कमरा है। बच्चे तो कभी-
कभी ही आते हैं। आप चाहे तो –।’
‘लोग क्या कहेंगे। अभी ही तो आता
हूँ तो जाने कैसे  देखते हैं।’
‘मुझे परवाह नहीं है,लोग क्या सोचते हैं। उस दिन तुम भी ओरों की तरह अनदेखा करके जा सकते थे। हमारा रिश्ता एक दर्द का रिश्ता है,पहले तुमने निभाया,अब मुझे निभाने दो।’
उम्र का फासला था। वो बड़ी थी,पर
जब तक वह स्वस्थ थीं पूरा ध्यान रखती।
‘पूरा घर तुम्हारे नाम से कर दिया है।’
‘पर—!’
तुमने मेरी जो सेवा की,उसे मेरे अपने भी नहीं कर पाए।’
    कितना पाक रिश्ता। बस दोनों  को एक ही दर्द था अकेले होने का। कितना मजबूत था यह दर्द  का रिश्ता..।
                                         #डॉ.राजलक्ष्मी शिवहरे
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सजनी

Mon Jul 10 , 2017
बाजते ढोल मृदंग, फड़कते अंग-अंग कहकर प्रियतम, मुझको पुकारती।           कजरारे ये नयन,           श्याम वर्ण ये बदन           तितलियों के संग-संग           आंगन बुहारती॥ नाक नथनी सजती, पैर पायल बजती मनभावन सजनी, दर्पण […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।