राष्ट्रपति की शुभकामनाओं के साथ प्रारंभ हुआ देशव्यापी राम मंदिर निधि समर्पण अभियान

Read Time1Second

नई दिल्ली।

अयोध्या में भगवान श्रीराम की जन्मभूमि पर भव्य मंदिर के निर्माण हेतु प्रारंभ हुए निधि समर्पण अभियान का श्रीगणेश आज देश के महा माहिम राष्ट्रपति के कर कमलों से राष्ट्रपति भवन में उनके पूरे परिवार के साथ हुआ। आज प्रात: 11 बजे श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के कोषाध्यक्ष पूज्य गोविंद देव गिरी जी महाराज, विहिप कार्याध्यक्ष एडवोकेट श्री आलोक कुमार, न्यास के न्यासी व भवन निर्माण समिति के अध्यक्ष श्री निरपेंद्र मिश्रा तथा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत संघ चालक श्री कुलभूषण आहूजा के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मण्डल ने भेंट कर उनकी शुभकामनाएं इस महा अभियान हेतु लीं।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर-संघचालक पूजनीय डॉ मोहन राव भागवत ने आज दिल्ली के मंदिर मार्ग स्थित वाल्मीकि मंदिर से अभियान का श्री गणेश किया। इस अवसर पर वे स्वयं वाल्मीकि मंदिर पहुंचे तथा मंदिर में पूजन अर्चन के उपरांत पूज्य श्री कृष्ण शाह विद्यार्थी जी महाराज का आशीर्वाद लिया तथा उनका योगदान भी प्राप्त किया। जूना पीठाधीश्वर पूज्य स्वामी अवधेशानन्द गिरी जी महाराज ने नागपुर की लाल गंज सेवा बस्ती में अनुसूचित जाति के समुदाय के साथ सभी बँचित समाज के लोगों से भिक्षा मांग कर उनसे समर्पण प्राप्त किया। इसी के साथ ही देश भर में असंख्य रामभक्तों ने गाँव गाँव गली गली व घर घर जाकर इस अभियान हेतु लाखों लोगों से उनकी समर्पण निधि प्राप्त कर उनको इस पुनीत कार्य से जोड़ा।

 अनेक राज्यों की राजधानियों से भी इस अभियान से गणमान्य लोगों के जुडने की खबरें दिन भर आती रहीं। उत्तराखंड की राज्यपाल श्रीमती देवीरानी मौर्य से विहिप के केन्द्रीय मंत्री व प्रवक्ता श्री अशोक तिवारी की अगुवाई में एक प्रतिनिधि मण्डल ने भेंट की। श्रीमती मौर्य ने अपने पतिदेव के साथ एक लाख rtgs के माध्यम से तथा 21000 चेक के माध्यम से निधि अर्पित की। राज्य के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्ररावत ने अपनी धर्म पत्नी की उपस्थिति में 1,51,000/- रुपए का चेक समर्पित किया। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में विहिप के केन्द्रीय संगठन महामंत्री श्री विनायकराव देशपांडे की अगुवाई में एक प्रतिनिधि मण्डल राज्य के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री शिव राज सिंह चौहान से मिला। श्री चौहान ने श्रद्धापूर्वक उन्हें अपनी व्यक्तिगत निधि समर्पित की। कर्णावती में विहिप के प्रांत कार्यालय में हुए एक भव्य निधि समर्पण कार्यक्रम में विहिप की केन्द्रीय प्रबंध समिति के सदस्य श्री दिनेश चंद्र ने राजधानी के कुछ गणमान्य लोगों के साथ राज्य के उप-मुख्यमंत्री श्री नितिन पटेल का भी समर्पण प्राप्त किया।

उत्तरप्रदेश के रायबरेली स्थित बैसवारा जनपद के तेजगांव के पूर्व विधायक श्री सुरेन्द्र बहादुर सिंह ने सैंकड़ों रामभक्तों की उपस्थिति में एक भव्य कार्यक्रम में विहिप उपाध्यक्ष व श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के महा मंत्री श्री चंपतराय को 1,11,11,111/- का एक चेक समर्पित किया। बाद में श्री चंपत राय ने राज्य की राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल से राजभवन में भेंट कर अभियान के संबंध में उनकी शुभकामनाएं प्राप्त कीं।

भवदीय

विनोद बंसल

राष्ट्रीय प्रवक्ता

विश्व हिन्दू परिषद

0 0

matruadmin

Next Post

गुलामी

Sun Jan 17 , 2021
हम जात पात में पड़े रहेंगे। और देश को बर्बाद करेंगे। दूसरे देश प्रगति को चुनेंगे। और विश्व में पहचान बनाएंगे।। गये थे जब अंग्रेज देश से तो जाती का बीज वो गये थे। जिससे आपसी भाई चारा देश में स्थापित न हो पाये। और लड़ते रहो आपस में जातीधर्म […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।