झलक

Read Time0Seconds

मेरी जुबान तै मीठी नहीं सै
पर मेरा दिल मीठा सै
कभी भी कोई कुछ
कह देवे तो उसका हो जावै सै
यहां पर तो मैंने देख्या सै
एक बड़ी अजीब सी दास्तां सै
हंसला तो लोग जलै सै
अर कठिनाई भुगता तो अनेक सवाल करे सै
अपने ही अपने को लुट लेवे सै
या प्रथा काफी पुरानी सै
लेकिन जिक्रा इसका ईब होण लाग्या सै
गेरों को पता नहीं चाले
कि इस दिल की दिवार कितनी
कमजोर सै
अर कहां तै सै
नफरत के बाजार में
जीना का अलग नजारा हो सै
लोग तो रूलान की कोशिश करे
हाम फेर भी हांसे जावां सां
मेरी तो पुरी जिन्दगी बदल गयी सै
कुछ ढंुंढण में।
ढुंढना क्या सै इनकी अभी
खोज करण लाग्यरया सूं
लेकिन मैं के करूं
जिसने ढुंढण की
तलाश करां वां
तलाश एक तरह सिमट कर
रह जावै सै
इस सकून मैं
फेर सोच्यां सा
कि जो मिला सै
वो कहां से ल्याया
था
कहां लेकर जावेगा
अगर मैं फुर्सत
निकाल कै अपनी
महफिल जमाण लाग जाऊं
तो
लौटते समय अपना दिल
नहीं आवंगे, सीने में।
मेरी आवाज को तुम
महफूज कर लो
क्या पता महफिल में
कब सन्नाटा हो जाये
ये सै जिन्दगी के कुछ
पल की झलक
बातें बीती
आज जब अपने
पुराने दिनों की
ताजा करने को
स्कूल की चार
दिवारी के अन्दर
जब मैं घुसा
तो एक टक
उसे देखता ही रह गया
मेरी आंखें चूंध गई
मेरे को लगा कि
कही दूसरी ओर
घुस आया
क्योंकि
जहां मैंने शिक्षा
ली
वो ओर स्कूल था
गेट भी नया
दरवाजे भी नये
कमरे भी नये
केवल जगह वही
न वो विज्ञान कक्ष
न पानी की टंकी
न वो शिक्षार्थी
न वो शिक्षक
न वो चपरासी
न वो लिपिक
वहां ऐसा लग रहा था
जैसे शहर की
हवा गांव के
स्कूल को लग गई हो
मेरा स्कूल
काफी बदलता
हुआ महसूस
कर रहा
हूं
आज के युग
जैसा
न वो मित्र
न वो पढाई
न वो पेड़
न वो मैदान
सब कुछ बदलग्या
मेरे गांव के
स्कूल का।

खान मनजीत भावड़िया मजीद

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, भावड़

1 0

matruadmin

Next Post

शांत चित्त

Wed Jan 13 , 2021
शांत चित जिसका रहे वही प्रभु के निकट रहे मिलता उसे मान सदा जो व्यर्थ से मुक्त रहे विकारो से जो ग्रसित न हो पावनता उसके निकट रहे देह तो सबकी नश्वर है क्यो इसके मोह मे रहे आत्मबोध मे रहते है जो प्रभु ध्यान उन्हें ही रहे जीवन का […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।