मेरी जुबान तै मीठी नहीं सै पर मेरा दिल मीठा सै कभी भी कोई कुछ कह देवे तो उसका हो जावै सै यहां पर तो मैंने देख्या सै एक बड़ी अजीब सी दास्तां सै हंसला तो लोग जलै सै अर कठिनाई भुगता तो अनेक सवाल करे सै अपने ही अपने […]

म्हारे देश में आपणी-आपणी कहानी सुणावै सै अर अपने रोले-रोवै सै मेरे ढब्बी ब्होत घणे थे उन में तै एक मेरा घणा प्यारा ढस्बी जो आज मेरे बीच में ना सै जो कदे भी लौटे कोनी आवै उसका कै नाम, सै उसका मेरे साहसी नाम ना लेवो वो तो मेरे […]

जा रहा हूँ, मैं हूँ साल दो हज़ार बीस, क्षमा करना, नफ़रत स्वाभाविक है, छीना जो है बहुत कुछ, बच्चों से पिता को, बहन से भाई को, पत्नी से पति को, ना जाने कितने रिश्तों से रिश्तों को, कारोबार, ऐशो आराम, सुख चैन, फ़ेहरिस्त लंबी है, द्वेष है, क्रोध है, […]

उर्दू कविता में दोहा की परंपरा प्राचीन है। जिस प्रकार उर्दू भाषा के विकास में सूफियों की सेवाएँ अविस्मरणीय हैं, उसी प्रकार उर्दू साहित्य के विकास में भी उनकी सेवाओं को अनदेखा नहीं किया जा सकता। दोहा उर्दू कविता की एक शैली है। कुरान के शुरुआती निशान भी सूफीवाद के […]

कहीं जब याद का मौसम आता है दिल में कोई कलियाँ नहीं खुलतीं जब दर्द की गंध दिल की सभी दीवारों को सूँघो दुखों के साधन पर उन्होंने इस तरह एक अनसुना गीत गाया वो सारे सपने उन आंखों से जैसे आंसू निकल आए तो मुझे याद है कि हम […]

नए साल का नया त्योहार लाऊंगा करीब से देखो – बहुत सितारों में मैं एक नई रोशनी लेकर आऊंगा मैं तुम्हें न्याय के दिन के करीब लाऊंगा मैं तुम्हारी इन बेदम सांसों के लिए एक उद्देश्य लाऊंगा कड़वी यादें जो रह जाती हैं मैं उन्हें भूलने का एक तरीका लाऊंगा […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।