दरिंदो का खिलौना, बने ये बेटियां

0 0
Read Time1 Minute, 17 Second

कब थमेगा ये सिलसिला, क्या ये बेटियां यूं मरती रहेंगी!
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, बस नारों में दम भरती रहेंगी!!
तुम उनका दिल पूछकर देखो, जो अपनी बेटी खो रहे हैं!
सरकार खामोश बैठी है और, वो खून के आंसूं रो रहे है!!
हवस मिटाकर ना पेट भरा तो, उसकी जुबां भी काट दी!
उसके शरीर की हड्डियां भी, कितने हिस्सों में बाट दी!!
नारी तन से पैदा हुए और, नारी से ही बलात्कार किया!
शर्म ना आई उन कुत्तों को, दिल ने भी ना चीत्कार किया!!
जलाकर उसकी लाश रात को, शक में भी ये खाकी है!
दिल का टुकड़ा खोया मां ने, दर्द मे अब क्या बाकी है!!
बार बार हो रहे बलात्कार, क्या यही मेरे देश की शान है!
नपुसंक करो उन कुत्तों को, जो दरिंदे घूमते सरेआम हैं!!
क्यो इतनी छूट मिली इनको,रोज क्यों होते कांड घिनोने है!
“मलिक”का दिल रो उठता, जब बनती नारियां खिलौने हैं!!

सुषमा मलिक “अदब”
रोहतक (हरियाणा)

matruadmin

Next Post

गांधीजी - एक आदर्श

Fri Oct 2 , 2020
अफ्रीका में आंदोलन चलाया सबको समानता का अधिकार दिलाया वापस भारत आ करके आजादी का बिगुल बजाया। चंपारण में सत्याग्रह चलाया अहमदाबाद में मजदूरों को अधिकार दिलाया, खेड़ा में किसानों पर जुल्मों को हड़तालों से बंद कराया। असहयोग आंदोलन चलाया सविनय अवज्ञा से जनता को जगाया, जली होलिका विदेशी वस्त्रों […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।