जांगर

Read Time8Seconds

विपत्तियों के दौर में
उजाले भी चुपके से
पंहुच जाते हैं
अंधेरों के पाले में
छोड़ देते हैं साथ सब
न साथ रहता हाथ अपना
आपदा की आंधियां भी हौले -हौले
ले बवन्डर साथ – साथ
गह बहियाँ बाधाओं संग
झंझावात के आगोश में
जलजले ओ जलालत भी
लगाते हैं झरी मुसीबतों की
ढाते हैं कहर लेकिन
न होता है बाल बांका
आसमां को छूती लहरें
न डुबो पाती हैं जीवट को
विपत्तियों के प्रबल लहरें
क्या डुबोयेंगी उस किस्ती को
जिस किस्ती की पतवारें
मजबूती से गिरफ्त हैं
सबल बाजुओं के पंजों में
जब जांगर की जंग दृष्टि
थाम कर वल्गा
अपनी मजबूत बाहों में
मोड़ कर तुरंग तूफां
बांधकर सेहरा कफन का
संजोकर अदम्य साहस
करता है किलोल
क्रोड़ में प्रलय की
विन्ध्य सा अचल गिरि को
न डिगा पाता पवन कोई
न हिला पाती है शैलावें
हो गहरी जड़ें जिसकी
जिसका अन्त ही अडिग हो
क्या करेगी नदी कोई
जो सूरज को जगाता हो
सुलाता हो रातों को
दिवा के सपने सजाता हो
न आंखें जिसकी कभी सोई
बिछेंगे फूल राहों में
न रोक सकेगा कदम कोई
मेट कर भाल कुअंक
विधि विधान अभिलेख के
वही लिखेगा धवल अंक
अमिट श्रम जल की बूंदों से
जांगर दृष्टि हो मंजिल पर
हर कदम मंजिल होगा
मंजिल ही हम सफर होगी

नाम-सुभाषचंद्र चौरसिया ‘बाबू’
पिता श्री का नाम-स्वर्गीय श्री खज्जू चौरसिया
मात श्री का नाम-स्वर्गीय श्रीमती बिट्टी देवी चौरसिया
प्रेरणास्रोत जीवन संगिनी का नाम-स्वर्गीय श्री मती हेमवती चौरसिया
जन्म स्थान–जनपद महोबा उत्तर प्रदेश
(वीर भूमि ऐतिहासिक एवं महोत्सव नगर)
जन्म तिथि– 12-08-1948
शिक्षा—–स्नातक विज्ञान वर्ग
पारिवारिक पृष्ठभूमि—मध्यमवर्गीय किसान
व्यवसाय –पान उत्पादन, परम्परा गत कृषि कार्य
रुचि—साहित्यिक रुचि, कविता- कहानी लेखन , गुप्त दान, सर्वधर्म भोजन सेवा में आर्थिक मानसिक सहयोग, किसान सेवा
प्रकाशन—– समय – समय पर समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में प्रकाशित,
उपलब्धियां— प्रदेश संगठन मन्त्री, चौरसिया महा सभा उत्तर प्रदेश
मण्डल सचिव —, भारतीय किसान यूनियन टिकैत
चित्रकूट धाम मण्डल बांदा
पूर्व जिला महा मन्त्री उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रति निधि मण्डल जिला महोबा
पूर्व जिला अध्यक्ष बुन्देलखण्ड मुक्ति मोरचा जिला महोबा
उद्देश्य——-असहाय लाचार की सेवा, किसान सेवा
मेरे प्रेरणा स्रोत, मेरे हम सफर स्वर्गीय श्री मती हेमवती चौरसिया की यादगार को अक्षुण्ण बनाने के लिए रचित रचनाओं का प्रकाशन कर समर्पण,
इसी क्रम में उनकी प्रथम पुण्यतिथि दिनांक 08-01-2019 को उनकी समाधि स्थल पर पर्यावरण संरक्षण के निमित्त वन- धन- जन अभियान का शुभारंभ किया गया था जिसमें समय- समय पर वृक्षारोपण कर पर्यावरण के प्रति जन जागरण किया जा रहा है और यह अभियान भविष्य में लगातार जारी रहेगा।

1 0

matruadmin

Next Post

युवा

Wed Aug 12 , 2020
जल रही हो जिसमें लौ आत्मज्ञान की समझ हो जिसको स्वाभिमान की हृदय में हो जिसके करुणा व प्रेम भरा बाधाओं व संघर्षों से जो नहीं कभी डरा अपनी संस्कृति की हो जिसको पहचान भेदभाव से विमुख करे सबका सम्मान स्वदेश से करे जो प्रेम अपरम्पार जानता हो चलाना कलम […]

You May Like

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।