हिन्दू साम्राज्य दिनोत्सव

Read Time0Seconds

हिंदू साम्राज्य दिनोत्सव ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष त्रयोदशी का यह दिन कोई सामान्य दिन नहीं था, मुगलों अफगान तुर्कों के अत्याचार भरे शासन के कई दशक बीत जाने के बाद एक हिंदू सम्राट के राज्याभिषेक का स्वर्णिम अवसर है ऐसा समय जब तुर्कों से युद्ध का विचार भी करना, देश में अपराध माना जाता था। राज्य धन संपदा को समाप्त करने वाला माना जाता था। राज्य के वैभव और यश व कीर्ति से समझौता करना माना जाता था। ऐसे प्रतिकूल समय में जीजा माता अपने बालक शिवबा को बहुत ही सजगता से बड़ा किया। दादा कोणदेव ने वीरता, पराक्रम व शस्त्र विधाओं में पारंगत किया। शिवाजी बड़े होकर क्षेत्र के सबसे बड़े नायक बने। छत्रपति शिवाजी का राज्याभिषेक, मुगलों व तुर्कों के शासन के कब्र में अंतिम कील ठोकने के समान था। देश में यह दिन अनन्य उत्साह से मनाया जा रहा था, कई दशकों बाद एक हिंदू राजा अपने स्वाभिमान से एक बड़े भूभाग पर राज्य कर रहा था, उसका क्षेत्र तो महाराष्ट्र आंध्र प्रदेश तक सीमित था किंतु शिवाजी राजे की नजरें दिल्ली पर टिकी थी, कई मराठा सरदार मुगलों के चापलूस बने हुए थे इसी कारण यदा-कदा शिवाजी को परेशानियों का सामना भी करना पड़ा। शिवाजी का काल हिंदू साम्राज्य का स्वर्णिम काल रहा, संघर्ष अवश्य हुए परंतु विजय श्री हिंदुत्व के पक्ष में रही। इसका महत्व तब और बढ़ जाता है जब देश में औरंगजेब जैसे क्रूर आक्रांता का शासन हो, जो बार-बार शिवाजी के चुनौती देने के बाद भी उनके सामने नहीं आता, क्योंकि औरंगजेब बहुत शातिर, षड्यंत्रकारी, दुष्ट नायक था, वह स्वयं को युद्ध में झोंकने की जगह सेना और सेनापतियों को भेजना सही समझता था, फिर मुगल शासन भारत के बड़े भूभाग से कर वसूली कर रहा था इस कारण उसका अर्थकोश अन्य राज्यों की तुलना में बहुत था, सेना पर अत्यधिक खर्च किया जाता। हिंदुओ का दिया गया कर ही उनकी गुलामी को मजबूत कर रहा था। इस तरफ शिवा जी ने भी छापामार युद्ध नीति सिख ली थी, राजपूत इतिहास में किए गए छल और धोखों से शिवाजी परिचित थे, मुस्लिम आक्रांता सदैव धोखे से हमला करते है, झूठ बोलकर कैद करते है, वादा तोड़ते है यह बात शिवाजी अच्छी तरह समझ चुके थे, इसी कारण उन्हें इस सदी का पूर्ण योद्धा माना गया। उनके राज्याभिषेख का मतलब था पूरे भारत वर्ष को यह सन्देश की अब हिन्दू राजा स्वयं डटकर खड़े हो सकते है, अब तुर्कों, पठानों, मुगलों के दिन बीत गए, गुलामी के घनघोर अंधेरे में शिवाजी का राज्याभिषेख उसी तेज पुंज के समान था जो अंधेरे को चीरकर अपना साम्राज्य स्थापित करता है।

शिवजी के राजगढ़ किले में हुए राज्याभिषेख से अन्य कई योद्धा भी स्वराज के लिए प्रेरित हुए। इनमें से एक छत्रसाल भी शिवाजी के साथ लड़ने को प्रस्तुत हुआ, जिसे शिवाजी ने बुंदेलखंड के अपने राज्य को सुरक्षित करने और वहीं से स्वराज का बिगुल बजाने के लिए निर्देशित किया। हम सभी जानते है छत्रसाल के पराक्रम से औरंगजेब भी आतंकित था, अकेला छत्रसाल हि ऐसा राजा हुआ जिसे मुगल कर चुकाते थे। फिर कोंडवाना के योद्धा ताना जी मालसुरे को भी हम सभी जानते है, बेटे की शादी छोड़कर शिवाजी के एक आदेश पर दुर्ग पर चढ़ाई कर दी। दुर्ग तो जीता किन्तु स्वयं के प्राण अर्पण कर दिए। योधाओं के स्मरण पर बाजीराव को कौन भूल सकता है, शिवाजी से ही प्रेरणा लेकर श्रीमंत बाजीराव बलाड़ संकल्पित भाव से मुगलों से टकराये, उनके वार का मुगलों के पास कोई जवाब नही था। बीजापुर के नवाब तो घुटने टेक चुके थे, यदि बाजीराव कुछ वर्ष और जीवित रहते तो दिल्ली पर भी भगवा परचम फहरा रहा होता। ऐसे अनेक वीर शिवाजी से प्रेरित होकर स्वराज के आहवान यज्ञ में समिधा सम जले। तब जाकर हिन्दू साम्राज्य दिनोत्सव का महत्व हम हिन्दुओं के लिए इतना बढ़ जाता है। हर युवा को शिवाजी से प्रेरणा लेकर अपना जीवन जीना चाहिए।

मंगलेश सोनी
मनावर (मध्यप्रदेश)

0 0

matruadmin

Next Post

प्रेम के बीज

Thu Jun 4 , 2020
क्यों न प्रेम के बीज बोया जाये ऐसा कहते सुना मैनें कि जो बोया वहीं बीज पाया है बस यही उद्देश्य कि क्यों न प्रेम के बीज बोकर पालू सुकून प्रेम से उपजेंगे कई पौधे लायेंगे ये बहार न पनप पायेंगे छल कपट फरेब मक्कारी भरे अनैतिक बीज प्रेम के […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।