बन्दर और मदारी

Read Time1Second

देखो बच्चों मदारी आया,
बन्दर और बंदरिया लाया।
कपड़े पहने हैं रंग-बिरंगे,
संग में लिए हैं लाठी-डण्डे।
आँखें हैं उसकी छोटी-छोटी,
भौंह है उसकी मोटी-मोटी।
कभी उछलता कभी कूदता,
कभी छड़ी लेकर है चलता।
नाक है उसकी छोटी-छोटी,
लम्बी दुम है उसकी मोटी।
ठुमक-ठुमक कर नाच दिखाता,
सलाम के लिए वह हाथ उठाता।
कभी कमर पर हाथ है रखता,
कभी हाथ से नाक रगड़ता।
देखो बच्चों मदारी आया

#अजय कुमार वर्मा

1 0

matruadmin

Next Post

शास्त्री- बापू तेरे ही देश में

Thu Oct 1 , 2020
शास्त्री- बापू तेरे ही देश में लूट रही है अस्मत से बेटियां और बहशी बना है आदमी बापू तेरे देश में । रो रहा है अन्नदाता और भर रही हैं तिजोरिया उद्योग पतियों की लाल बहादुर शास्त्री तेरे देश में। सत्ता बनी है शातिर अपने सिंहासन परस्ती की खातिर शास्त्री-बापू […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।