दिल के मेले में…

2
Read Time0Seconds

vivek

खो सा गया वो दुनिया के मेले में,
पास था कितना अपने वो अकेले में।

भुलाकर वो खुद को खुद,
पड़ा वो दुनिया के झमेले में।

क्यों है तन्हा तू अब भी,संग दुनिया, रहकर भी सोचता है वो अकेले में।

इससे बेहतर तो तू तब था जब तू, खोया था अपने दिल के मेले में ।

                                                                                  # विवेक दुबे

परिचय : दवा व्यवसाय के साथ ही विवेक दुबे अच्छा लेखन भी करने में सक्रिय हैं। स्नातकोत्तर और आयुर्वेद रत्न होकर आप रायसेन(मध्यप्रदेश) में रहते हैं। आपको लेखनी की बदौलत २०१२ में ‘युवा सृजन धर्मिता अलंकरण’ प्राप्त हुआ है। निरन्तर रचनाओं का प्रकाशन जारी है। लेखन आपकी विरासत है,क्योंकि पिता बद्री प्रसाद दुबे कवि हैं। उनसे प्रेरणा पाकर कलम थामी जो काम के साथ शौक के रुप में चल रही है। आप ब्लॉग पर भी सक्रिय हैं।

 

0 0

matruadmin

2 thoughts on “दिल के मेले में…

  1. “हर तरफ हर जगह बेशुमार आदमी,फिर भी तन्हाइयों का शिकार आदमी।”एकाकीपन की पीड़ा का भावुक चित्रण।ये बाद में ही अनुभव होता है कि दिल के झमेले में भी “मैं तन्हा था मगर इतना नहीं था।”सुन्दर रचना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Фанис Джураев

Tue Apr 18 , 2017
Фанис Джураев Тимурович (Мытищи, Россия). Родной город: Ташкент. Город проживания: Москва. Год рождения: 24.04. Логин в сети Интернет – fanis70, использует мобильный телефон +79261851931 (Viber, WhatsApp). Емаил: fanisdghuraev@gmail.com, Skype-логин fanis240470. Мобильный телефон в Турции – +90 (538) 0598740 (если уже не отключен). Профиль в Facebook.com Post Views: 170

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।