तपती धरती

3
Read Time1Second

deenesh prajapat

धरती तपती देखी तो मानव घबरा गया,
शिकायतों का पुलिंदा लेकर कैलाश पर्वत आ गयाl

कैलाश पर पार्वती संग बैठे थे भोले,
मानव भोले से ऎसे बोले-
बचा लो प्रभु अब नहीं सहन हो पाएगा,
गर्मी इतनी बढ़ गई कि `एसी` भी फेल हो जाएगा।

इतनी सुन भोले ने सूर्य देव को बुलवाया,
सूर्यदेव कैलाश पर्वत आए और फिर मुस्कुराए..
भोले बोले-मानव शिकायत ले आया है,
तुझे कोई गम नहीं तू क्यों मुस्कुराया आया है।

सूर्य बोला-इसमें मेरी क्या गलती है,
मानव इतना प्रदूषण फैला रहा है..
जिससे धरती बेवजह तपती है।

                                                                            #दिनेश कुमार प्रजापत

परिचय : दिनेश कुमार प्रजापत, दौसा जिले(राजस्थान)के सिकन्दरा में रहते हैं।१९९५ में आपका जन्म हुआ है और बीएससी की शिक्षा प्राप्त की है।अध्यापक का कार्य करते हुए समाज में मंच संचालन भी करते हैं।कविताएं रचना,हास्य लिखना और समाजसेवा करने में आपकी विशेष रुचि है। आप कई सामाजिक संस्थाओं से भी जुड़े हुए हैं।

0 0

matruadmin

3 thoughts on “तपती धरती

  1. bahut ache kaviraj
    Apni lekhni ka chetra or badao
    Samajik k sath rajnetik moode bhi uthao

  2. दिनेश जी आपकी कविता बड़ी अच्छी है हम आपको इस के लिए बहुत धन्यवाद देते है विकाश कुमार पोटर दौसा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हिन्दू भी अपने हैं,मुसलमां भी अपने

Fri Apr 14 , 2017
बेख़ौफ़ हो रही हैं पुतलियाँ किसलिए, दम तोड़ रही हैं सिसकियाँ किसलिएl जब हिन्दू भी अपने हैं,मुसलमां भी अपने, ख़ामोखां जल रही हैं बस्तियां किसलिएl इस फिजा में मिलाया है ज़हर किसने, बे-मौत मर रही हैं तितलियाँ किसलिएl इंसान तैरता पानी में,पंछी चलते ज़मीं पर, हवा में उड़ रही हैं […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।