कुछ हैं मेरे सपने

2
Read Time3Seconds

k johan

कुछ हैं मेरे सपने,
कुछ सच्चे,कुछ कच्चे..
कुछ खट्टे,कुछ मीठे,
कुछ सिमटे,कुछ बिखरे।

कुछ अनमने,कुछ अनकहे,
कुछ दिखलाते,कुछ धुंधलाते..
कुछ कराहना,कुछ मुस्कुराते,
कुछ आते,कुछ जाते।

समेटना चाहूँ,तो मुमकिन नहीं,
सपनों ने ही बिखेरा है मुझको..
आस और आस,न रहा कोई पास,
रुक-रुक के आते हैं।

बवंडर-सा मचा जाते हैं,
कभी खेलते हैं मुझसे..
कभी नचाते हैं मुझको,
एक पूरा होता नहीं,दूसरा सामने।

कहीं धकेलता,कहीं बुलाता पास,
कभी अचेतन मन में खुशी भरता है
कोई रह-रह के याद आता,
कोई कहीं यूँ ही गुम जाता है।

रुकना ये जानता नहीं,
चल मेरे बिना यह सकता नहीं..
संभलता नहीं,गिरता नहीं,
रुकता नहीं बिखरता नहीं।

हर एक सपना कुछ कहता,
कभी आशा-कभी निराशा..
कभी खुशी-कभी गम,
कभी अपनी ही आत्मा से मिलन
तो कभी परमात्मा से मिलन।

कुछ अनुभव,कुछ आभास
कहीं पुरानी यादें,कहीं वर्तमान,
कहीं भविष्य की उड़ान…।

                                                                            #डॉ. किशोर जॉन
 
परिचय : सहायक प्राध्यापक (पुस्तकालय एवं सूचना विज्ञान)  डॉ. किशोर जॉन मध्यप्रदेश के इंदौर में ही रहते हैंl वर्तमान में विशेष कर्त्तव्य अधिकारी के पद पर अतिरिक्त संचालक(उच्च शिक्षा विभाग,इंदौर संभाग) कार्यालय में इंदौर में पदस्थ हैंl  पुस्तकालय एवं सूचना विज्ञान सहित वाणिज्य एवं व्यवसाय प्रबंध में आप स्नातकोत्तर हैंl  आपको  23 वर्ष का शैक्षणिक एवं प्रशासकीय अनुभव है तो, राष्ट्रीय-अन्तराष्ट्रीय स्तर पर 30 से अधिक शोध-पत्र प्रस्तुत एवं प्रकाशित किए हैं, एवं 3 पुस्तकों के सम्पादक भी रहे हैंl 
0 0

matruadmin

2 thoughts on “कुछ हैं मेरे सपने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आवाज लगाता कौन है

Sat Mar 25 , 2017
ये रोज हमें आवाज लगाता कौन है, नदी किनारे मीठा गीत गाता कौन है। सुबह नींद से हमें जगाता कौन है, ख्वाब में आता नहीं,ख्यालों में आता कौन है। हमारे नाम से ख़त भिजवाता कौन है, ये रस्ता और वो मंजिल पर पहुँचता कौन है। झूठ बोलकर आया हूँ, तेरे […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।