*संगीत और स्वास्थ्य*

Read Time0Seconds
priyanka pankhi
संगीत में रुचि तो बचपन से ही रही थी पर तब ज्यादा उसकी महत्व पता नही था। माँ को पुराने फिल्मी गाने बजाने का शौक था और हम भी उसमें रुचिवान होते गये।
संगीत का प्रभु भक्ति के साथ भी संबंध है यह सब माँ ने बालक थे हम तभी से सिखाया था। पर साक्षात्कार तब हुआ जब मेरी संगीत में रुचि देखकर और मधुर आवाज को ध्यान में लेते हुए माँ ने मुझे संगीत क्लास में भर्ती कराया था। तब मैं बड़ी हो चुकी थी यह करीब मेरे सातवी क्लास के वेकेशन की बात है। वो क्लास सबसे अलग था, वहाँ दिखने में कोई खास प्रभाव नहीं था एक छोटा सा कमरे में एक थोड़े वृद्ध दादा सिखा रहे थे, पर उनका ज्ञान शास्त्रीय संगीत का बहुत अनोखा था। आज के भौतिक सुखों और दिखावट के जमाने कम लोगो को ही ये सुहाये। मुझे खुशी है कि मेरी माँ ने उनके ज्ञान को देखा बाहरी दिखावे को नहीं। और इसी वजह से बहुत कम विद्यार्थी ही आते थे वहाँ सीखने के लिए, सबको कहाँ शास्त्रीय संगीत भाये! जो पुराने समय मे राजा महाराजाओं के दरबार में बजते थे वैसे राग वो दादा सिखाते थे। इन दौरान कई संगीत के चमत्कारों को देखे साथ महसूस किये। और यह में दृढ़ता से कह सकती हूँ संगीत स्वस्थ्य के लिए अनोखी हीलिंग है।  मेरी शुरुआत तो भोपाली राग से हुई थी जो आगे बढ़ते हुऐ करीब 10 से 12 राग को सीख कर दुर्भाग्यवश छूट गयी थी। जब भी सिर दर्द हो मध्याह्न में राग मधुमालती गाने या सुनने से उसमे राहत मिलती है। सुबह के राग अलग, शाम के अलग रात्रि के अलग है और उस काल में उनको गाने या सुनने से कई बीमारियों से मुक्ति मिलती हुई देखी।
*राग मल्हार को बारिश का राग कहते है। वो सही तरीके से कोई संगीत वाद्यों के साथ गा ले, तो किसी भी मौसम में बारिश आयेगी ही। राग शिवरंजनी , राग मालकौंस, राग कलावती, राग भैरवी, राग यमन, राग काफी, जैसे कई राग वो दादा गुरु से सुनने तथा सीखने मिले थे।* इनमे यमन राग बहुत पसंद है मुझे। फिर क्या मुंबई शिफ्ट होना हुआ। वो कक्षाएँ छोड़ना पड़ा और यहाँ मुंबई जैसी नगरी में भी वो तरीके से शिखाने वाले कोई कक्षाएँ नहीं है।
आज के रॉक स्टार अगर शास्त्रीय संगीत के महत्त्व को और उसके आंनद को महसूस करले तो आज भी संगीत के माध्यम से अनेक लोग लाभान्वित हो सकते है। कैंसर जैसी बीमारी पर संगीत का प्रभाव है तो छोटी मोटी बीमारी सरलता से दूर हो उसमे कोई दो राय नहीं। *आज के मन पसंद फिल्मी गानों से बेशक मुझे खुशी मिलती है पर शांति और सुकुन तो सिर्फ शास्त्रीय संगीत से ही मिल पाता है।*
तभी आज भी मेरा मन वो गुरु को कई बार नमन और धन्यवाद कहता है साथ मेरी आँखें मुंबई  जैसी नगरी में उनके जैसे शिक्षक ढूंढती है।
नाम – प्रियंका शाह
 खारघर (नवी मुंबई)
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वक्त आने पर है

Sat Jul 7 , 2018
कोई किसी के निशाने पर है ऐतबार नहीं जमाने पर है किसी को पढ़ पाना आसां नहीं दर्द किसी का मुस्कुराने पर है मूर्खो से बहस करें तो कैसे करें भला तो फिर सर झुकाने पर है मासूम फूल भी खिलकर बिखर गया तोड़ा किसी ने फिर मुरझाने पर है […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।