डिब्बा  बेस्वाद #दवाई का

0 0
Read Time2 Minute, 56 Second
surekha agrawal
ना चाहते हुए भी वसु की आँखे नम थी।आँसुओं से आँखे भरी हुई पर वह ठान बैठी थी की आज वह उस अनमोल अश्क को गालों पर लुढ़कने ही नही देगी चाहे जो हो जाएँ। रक्तिम आँखे उलझा हुआ मन और बेकाबु धड़कने और बेइंतहा दर्द। आज दर्द हारेगा यह आँसु।
दर्द बढ़ता जा रहा था लगातार दवाईयाँ खाकर ऊबन हो गई थी।स्वाद नाम की चीज़ गायब थी मानो। और ढ़ेरों परहेज़ के बीच कैद जिंदगी उफ़्फ़्फ़।
कुछ समझ नही पा रही थी की आँखों में कैद आँसु बोला सुनो वसु  मुझे बहने दो
मुझे घुटन हो रही हैं।  और वसु की जिद्द की नही आज तुम आँखों में ही विलीन हो जाओ तो बेहतर।क्योंकि तुम बहते हो तो मै कमज़ोर साबित होती हूँ।और तुम आज़ाद।
आँसु अपने आप में बेबस वसु से कहता हैं तुम जानती हो घुटन क्या होती हैं फिर मुझे क्यों घुटने पर मज़बूर  कर रही हो सुनो बह जाने दो।आज़ाद हो जाने दो। हाँ तुम हल्का महसुस करोगी
दर्द से निज़ात मिलेगी तुम्हे।बस एक वादा।मै   विलीन हो जाऊँगा तुम्हारे गालों पर
। और सुनो तुम् मुझे तुरन्त आत्मसात कर लेना।मुझे गहरी रेखा मत बनने देना।मै नही चाहता की वह गहरी रेखा बन मै तुम्हारी कमज़ोरी बन सबके सामने नजऱ आऊँ।।और वसु अपने दर्द को हरा अपने अश्क को हर बंधन से मुक्त कर देती हैं।हमेशा की तरह
खुद हारकर किसी अपने को घुटन से  आज़ाद कर…..!!
खुद कैद हो जाती हैं उसी दर्द की परिधि में एक मौन हार के साथ…..!!
टेबल पर रखें गिलास को हाथ में थामे बढ़ चलती हैं वह अपने सिरहाने रखे बेस्वादे😏😏 दवाई के डिब्बे की ओर….!!
नाम सुरेखा अग्रवाल
शिक्षा…स्नातक
शहर…..लखनऊ (उत्तरप्रदेश)
दो साझा संग्रह
कश्ती का चाँद
रूह की आवाज़
अंतरा से स्पंदन
अभिमत मासिक पत्रिका में कई
आलेख रचनाएँ,और लघुककथाएं प्रकाशित
नवप्रदेश, जंनसंदेश मैत्री ,नव एक्सप्रेस,अमर उजाला से रचनाएँ प्रकाशित।कई वेबसाइट्स पर आलेख ।
 लिखना मन को सुकूँ देता हैं और सृजन की शक्ति देता हैं।कलम समाज में एक बड़ा बदलाव का काम करती हैं।उद्देश्य हिंदी को  घर घर तक पहुँचाना।जय हिन्द,जय हिंद

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

"तुम  मेरे  ही  अंश  हो  प्यारे!"*

Thu Jul 5 , 2018
तुम  मेरे  ही अंश    हो   प्यारे!, और     मेरा       मूल      वंश । फिर हमको क्यों  देते  तुम हो , उपेक्षा  ,    उलाहना       दंश ? उपेक्षा    ,    उलाहना     दंश ? कंश जैसा व्यवहार  करते हो? जो तुम्हें  जना  पाला   पोसा , एकांत जेल में उसे रखते  हो ? कहै ‘भवन’ यह कर्म […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।