कैसा है यह मन बावरा, अनजाने डर से यह घबराता न कोई अपना न कोई पराया, फिर भी ढूंढे यह साथी पहचाना ना जाने कैसा है यह मन बावरा—- पता है इसको माहौल पुराना कि जहाँ वाह वहां अफवाह फिर भी अफवाहों से यूं ही डर जाता मेरा मन बेचारा […]

सदी इक्कीसवीं, बरस था सोलहवां दिवस और मास भी तो था ग्यारहवां रखा था एक कदम जो अब बना कारवां | लेकर ध्येय ‘हिन्दी भाषा के गौरव को बढ़ाना’ और ‘भारत में हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाना’ की ‘अविचल’ ने मातृभाषा.कॉम की स्थापना | देकर अभिव्यक्ति पटल द्विसहस्त्र रचनाकारों को मिला […]

आधुनिकता के इस दौर में न राम है न राम सा। न माता कौशल्या सी न पिता राजा दशरथ सा। सीता सी नारी नहीं अब जो दे सके अग्नि परीक्षा, समाज उस पर ऊंगली उठाए कैसे हो उसकी रक्षा। लक्ष्मण सा भाई नहीं देखा जो चल दिये वनवास, भाई-भाई का […]

भारत माँ की पावन भूमि में आज खुशियों की बहार। स्वतंत्रता दिवस की पावन बेला व राखी का त्यौहार। राखी के त्यौहार संग तिरंगा झंडा फहराएं हम, प्यार-स्नेह का बंधन, देशभक्ति मन में जगाएं हम। भाई-बहन के नेह का बंधन देश प्रेम का संयोग हुआ, केसरिया सफ़ेद हरा तिरंगा फहराने […]

श्याम सलोने तेरी मुरली है चितचोर जग के खिवैया आजाओ नन्दकिशोर श्याम वर्ण, तेरा रूप निराला मथुरा जन्मे कृष्ण गोपाला वासुदेव, देवकी ने जन्म दिया पुत्र कहलाये यशोदा नन्दलाला सुंदर मुखड़ा नयन काले-काले सिर पे मोर मुकुट, बाल घुघराले हाथ में मटकी, गले बैजंती माला मनमोहनी मूरत, रूप निराला उंगली […]

सुंदर काया सौभ्य छवि ज्ञानवान, वाकपटुता तेजस्वी थी राजनीति में कुशल थी वो प्रखर वक्ता ओजस्वी थी प्यारी सी मधुर मुस्कान थी उनकी मुखर व्यक्तित्व, सुलझी हुई नारी थी सादा जीवन उच्च विचार थे उनके भारत की बेटी संस्कारी थी भारत माता की सच्ची सेवा कर देश में किये सदा […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।