Author Archives: matruadmin - Page 1012

Uncategorized

हिन्दी से ही मेरा भारत महान

ज्ञान मिला घनघोर मिला, बोलन लागे सब अंग्रेजी बोल.. अंग्रेजो की 'अंगेजी' के देखो पीछे पड़ गए भारत के सिर-मौर मातृ भाषा छोड़न लागे जब से … सुन लो इसके…
Continue Reading
Uncategorized

दौलत

ख़्वाबों की कश्तियों में आओ कुछ और सफर कर लें, सारे जहां की दौलत हम अपने नाम कर लें। दौलत वह नहीं, जो तिजोरियों में कैद है, दौलत वह जो…
Continue Reading
Uncategorized

मित्र-स्पर्श

जाग उठा ह्रदय मन, खिल उठा अंतःकरण... रोम-रोम में रास हुआ, इस बार तुमने बहुत #गहरा छुआ...। ह्रदय छुअन का एहसास है, अंतरमन का ये विलाप है... मोह का मोह…
Continue Reading
Uncategorized

भारतमाता को नमन

सतरंगी चुनर माँ तेरी अनेक्य में एका-सी आभा लहराई है। गर्वीले इतिहासी आभूषण ने माँ तेरी शान बढ़ाई है॥ अमृत-सी तेरी वाणी में असंख्य भाषाई त्रिवेणियां बल खाई हैं। माँ…
Continue Reading
Uncategorized

तू इश्क़ है या…

तेरी यादें ज्यों दरिया है, मैं कोई गोताखोर हूँ। तू इश्क़ है या रब मेरा, तुझे देखता हर ओर हूँ॥ तेरा मिलना ज्यों सावन है, मैं चंचल-सा मोर हूँ। तू…
Continue Reading
Uncategorized

वो लम्हें….

वो लम्हें बीते हए क्यों मुझे याद आए, कुछ सुहानी हसीन यादें मन को महकाए l वो ख्वाब सतरंगी जो देखते थे हम कभी, उन यादों संग आज हम फिर…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है