जिसको देखो वही शख़्स खोया हुआ, दर्द सबके दिलों में है बोया हुआ। तेरे आग़ोश में आ गया होश में, एक ज़माने से मैं तो था सोया हुआ। तेरे दिल में तो पहले से ही दर्द था, अब तो चेहरा भी लगता है रोया हुआ। मुझको दीवाना-ए-ग़म वो कहने लगे, […]

तुम्हें भी हो गई नफ़रत,छुपाओ मत बहानों में, मेरा भी दिल नहीं लगता है,अब ऊँचे मक़ानों में। तुम्हारा साथ जब तक था,ग़रीबी में भी हँसते थे, जुदा होकर ख़ुशी मिलती नहीं हमको ख़ज़ानों में। तुम्हारे दूर जाने से मज़ा आता नहीं हमको, दीवाली के पटाख़ों में,मिठाई में,मखानों में। तुम्हारा ईद […]

जग को निहारने का सौभाग्य मिला, मातृत्व का जब वरदान मिला। ईश्वर जैसा मुझे सहारा मिला, जब माँ की ममता का आसरा मिला। आँचल में छुपकर भूख-प्यास सब मिटी, माँ का जब मुझे दुलार मिला। सबकी बुरी नजरों से मुझे बचाती, माँ से ही मुझे अपनापन मिला। सुकून से सो […]

जो ज़िन्दा था ज़माने में,उसी को मार आए हो, बहुत नादान लगते हो,सभी कुछ हार आए हो। ग़रीबों पर दया करते,बुज़ुर्गों की दवा करते, ख़ुदा को भूलकर मस्जिद में अब बेक़ार आए हो। ज़रा-सा शायरी करना सुख़नवर से नहीं सीखा, अभी से शोहरतें पाने भरे दरबार आए हो। जिसे यारों […]

ज़माने भर की तकलीफ़ें बहुत तकलीफ़ देती हैं…, अभी ग़ुरबत की ये कीलें बहुत तकलीफ़ देती हैं…। ये रोते हैं,बिलखते हैं,तड़पते हैं,सिसकते हैं…, भूखे बच्चों की ये चीखें बहुत तकलीफ़ देती हैं…। अभी फ़ुटपाथ पर रहते हैं जिनका घर नहीं कोई…, सुनो,बरसात की बूँदें बहुत तकलीफ़ देती हैं…। किसी के […]

किसी के चाहने से कब कोई भी काम होता है, यहाँ जो त्याग करता है, उसी का नाम होता है…। यहाँ संसार में सबको विषय भोगों ने तड़पाया, जो चारों दान करता है, उसे आराम होता है…। अभय का दान परभव के दुखों का नाश कर देता, शास्त्रों के दान […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।