दर्द में भी मुस्कराकर, दुख छुपाना चाहिए, हो कोई भी ‘परेशानी’ खुद पार पाना चाहिए। आ गए हों प्यार करने के  तरीके यदि सभी, रख कवच सिर पर ससुर  के पास जाना चाहिए। भा गई है आपको धनवान  की बिटिया अगर, लाज तजकर उसके कुत्ते को खिलाना चाहिए। सीखना है […]

मान लो,सम्मान लो, उन्वान लो, युद्ध जल बिनु ही छिड़ेगा जान लो। मान मत खुद को सिकंदर, बढ़ रहा देखो समुंदर, सिसकती धरणी पुकारे- घट रहा जल,रोज अंदर। आ रहा संकट निकट, संज्ञान लो, युद्ध जल बिनु ही छिड़ेगा जान लो। मेघ अलसाने लगे हैं, पेड़ कुम्हलाने लगे हैं, सूखते […]

छिन्न-भिन्न कर दीजिए,उनके सारे अंग, जो सैनिक को पीट कर,दिखा रहे थे रंग।। फारुख अब्दुल्ला कहे,’राइट’ पत्थरबाज, सेना को ही सौंप दो,खल का करे इलाज।। मणिशंकर चिल्ला रहा,जैसे ऊदबिलाव, इसे जीप पर बाँधकर,इक-दो गली घुमाव।। बेशर्मी की हद करे,सुश्री शबनम लोन, कोई मुझको दीजिए,इस हरहठ का फोन।। महबूबा के मोह […]

आज तक याद है, वो मीठा स्पर्श तेरा.. नव-यौवना संकुचित-सी, दुल्हन बन आई नया घर,नए लोग, नया परिचय तुम्हारा।। अब तक मां-बाबा,भाई-बहन से ही पाया स्नेहिल स्पर्श, ये नया-सा अहसास तेरी छुअन का, हाथों में हाथ लेकर मानो कह रहे हों.. आओ संगिनी स्वागत है, मेरे हृदय-कुंज में, जी लें […]

इस प्यारी दुनिया से, बीते हुए कल में। समाज के लोगों ने, अपने और गैरों ने।। मुझे अपनों से दूर किया, सोचने को मजबूर किया। और अब! कल की कल्पना ने, आज के सपनों को.. आईना दिखा दिया, है बेगाना बना दिया कोड़ी कल्पना ने, सफल सपने को.. चकनाचूर कर […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।