कलम जब संस्कार उगलती दुनिया को वह राह दिखातीं परमात्म लीला का रूप यह जो अच्छा हर रोज लिखवाती बिन थके, बिन रुके चलती अच्छी अच्छी बाते लिखती सीखते हम रोज़ कलम से दूर रहते हम अभिमान भ्रम से अकिंचन बन चले सदराह भले लोग ही हो हमराह जो मान […]

घरों में रहना ही अब हो गया काम दुनिया का दस्तूर कब बदल गया हे राम आदमी तो आदमी जानवर भी भूखे सो रहे निठल्लों का पता नहीं मेहनतकश रो रहे ना एंबुलेंस की कांय – कांय ना पुलिस गाडियों की उड़े धूल बस्तियों में बरसे सुख – चैन मंदिरों […]

तोड़ दो अब चुप्पी , तुम कुछ तो बोल दो। खजाने सारे मन्दिरों के, अब तो खोल दो। किया था श्रद्धा भाव से, भक्तों ने जो अर्पण। अरे मंदिर के ठेकेदारों, कुछ तुम भी करो अर्पण। मिलता है पुण्य दान से, ये तुम ही बोलते हो। तिजोरियाँ फिर अपनी, क्यों […]

फिर से तारी है सितम अपने वतन में देखूँ इस वबा को तू मिटा दे,ये चमन में देखूँ ढेर लाशों का बना रूह लरज़ जाती है ज़िन्दगानी है फ़ना,मौत जिसे आती है ख़ून के अश्क हैं ग़मगीन बयाँबानी है फ़िक्र उसको है कहाँ जिसकी ये सुल्तानी है वो निगहबान है […]

ये भौजी तुम कितनी सुंदर और नोनी हो। और तुमसे ज्यादा सुंदर तुमरी बहानिया है। देखकर हमरे नैना हटताई नहिं हैं। और धक धक करात हमरो जो दिल है।। ये भौजी तुम कितनी सुंदर हो….।। जबाऊ से तुमरो व्याओ भाऊ है भैया से भौजी। तभाऊ से हमरो भी दिल तुमरी […]

सीने में जख्म लिए चेहरे पर मुस्कान, माथे पर पसीना करता नवनिर्माण । अपनों से दूर सपनों में खोकर गीत नया गाता भरपेट नहीं खा पाता । टूटता-बिखरता पर भय नहीं खाता वह सीधा-साधा जग मजदूर उसे कहता । वो आज भी रंक बना कितने राजा पैदा हुए पर उसने […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।