नवयुग का शुभाशीष पुत्रीवती भव:

0 0
Read Time4 Minute, 40 Second

श्रीमती माला महेंद्र सिंह, (एम एस सी, एम बी ए, बी जे एम सी,)

गोद भराई के एक पारिवारिक कार्यक्रम में जाना हुआ। सभी बहुत उत्साहित थे, लड़के की माँ नंदिनी ने अपनी छोटी भाभी से कहा,”सुमन भाभी आओ सबसे पहले गोद आप ही भरोगी”। मेरे पास बैठी श्रीमती मिश्रा  बोली “हाँ भाई सुमन के दो-दो बेटे है, ये अधिकार तो उसी का है”। पास बैठी अन्य महिला बोली अरे बहु की गोद उसकी बुआ सास से भरानी थी। इसके पहले की वो आगे कुछ कहती, श्रीमती मिश्रा बोली “जिसके पहल पहल बेटा होता है, उससे ही गोद भरवाई जाती है।” मै मन ही मन सोच रही थी, की नन्हे मेहमान के आने की ख़ुशी में ये कौन-सा तनाव सभी वरिष्ठ महिलाये नवप्रसूता को दे रही है? कार्यक्रम चलता रहा, गाना-बजाना, लाड़-दुलार सब जारी था। इसी बीच नंदिनी भाभी ने बहू को सभी से आशीर्वाद लेने का इशारा किया। बहुरानी सभी बड़ो को यथातथा थोडा झुककर आशिर्वाद लेते जा रही थी। जैसे ही बहुरानी नंदिनी की पड़ोसी पायल जी के पास पहुंची,पायल जी ने भी सभी की तरह “पुत्रवती भव:” आशीर्वाद दिया। पायल जी की लगभग बारह वर्ष की बिटिया स्वरा तपाक से बोल पड़ी “मम्मी सब आंटी को पुत्रवती भवः ही क्यों बोल रहे है “?

मुझे भी बिटिया का प्रश्न सुनकर धक्का लगा। वह खेलने लगी और सभी अपनी हंसी ठहाकों में लग गए। किन्तु वो प्रश्न अधुरा ही रहा। जरा सोचे क्या हम हमेशा “पुत्रवती भवः” ही आशीर्वाद देंगे ? अगर हाँ तो पुत्र को जनने वाली जननी कँहा से आएगी ?

आइये नई शुरुआत करे, “पुत्रीवती भवः” का आशीष लुटाए। हो सकता है, प्रारम्भ में कुछ लोग आपको अजीब दृष्टी से देखे, आपसे बातचीत तक बन्द कर दे,आपके विषय में बाते भी बनाने लगे, आपका अपमान भी कर सकते है, लेकिन हाँ कुछ लोग आपका साथ देंगे, सम्मान भी करेंगे और वास्तव में स्त्री सम्मान की नई परिभाषा को गढ़ने के लिए अभ्युदया आपको ही मानेंगे। मै किसी भी रूप में हमारे पूर्वजो की बनाई हुई रीती से गुरेज नही रखती, लेकिन अगर कुछ बाते जिन्हें समय के साथ बदलना चाहिए, उसके लिए जरूर अपनी लेखनी आप सभी तक पहुचाऊंगी। हम सभी को जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सामयिक परिवर्तन के साथ इस प्रकार के विषयो को भी समयानुकूल बदलने की जरूरत है। आइये तो आज से इस “नवयुग का शुभाआशीष पुत्रीवती भवः” को भी अपने दैनंदिन जीवन में स्थान दे।

लेखिका परिचय: श्रीमती माला महेंद्र सिंह, (एम एस सी, एम बी ए, बी जे एम सी,)

विगत एक दशक से अधिक समय से महिला सशक्तिकरण हेतु कार्यरत। जय विज्ञान पुरस्कार, स्व आशाराम भाटी छात्रवृत्ति, तेजस्विनी पुरूस्कार, गौरव सम्मान, ओजस्विनी पुरुस्कार, युवा पुरस्कार जैसे कई सम्मान प्राप्त कर चुकी है।  देवी अहिल्या विश्वविद्यालय का प्रतिनिधित्व राष्ट्रीय युवा उत्सव व विभिन्न राष्ट्रीय वक्त्रत्व कौशल प्रतियोगिताओ में किया। एन सी सी सिनीयर अंडर ऑफिसर रहते हुए, सामाजिक क्षेत्र में सराहनीय कार्य हेतु सम्मानित की गई। सक्रीय छात्र राजनीती के माध्यम से विद्यार्थि हित के अनेक आंदोलनों का नेतृत्व किया। अभ्यसमण्डल, अहिल्याउत्सव समिति जैसी कई संस्थाओ की सक्रिय सदस्य है। समय समय पर समसामयिक विषयो पर आपके आलेख पढ़े जा सकते है। 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

'निन्दा रस'

Sat Jan 7 , 2017
यह लेख स्वतंत्र लेखन श्रेणी का लेख है। इस लेख में प्रयुक्त सामग्री, जैसे कि तथ्य, आँकड़े, विचार, चित्र आदि का, संपूर्ण उत्तरदायित्व इस लेख के लेखक / लेखकों का है, मातृभाषा.कॉम का नहीं। काव्य भाषा में होते,वैसे तो कई रस। कानों में मिश्री घोले,क्यूँ ये निन्दा रस।। निंदक नियरे […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।