कोशिश तुम पुरजोर करो

0 0
Read Time1 Minute, 38 Second
aabha dube
कभी शोक कभी हर्ष है,
      जीवन तो संघर्ष है।
नाते-रिश्ते झूठे सारे,
         बिन मुद्रा सब व्यर्थ है।
जाति,धर्म,संन्यास,गृहस्थी,
        कामवासना मोह मद।
अपनी-अपनी सबकी तिकड़म,
          अलग सभी के अर्थ हैं।
राजनीति की लुटिया लेकर,
        जल में हैं सब खेल रहे।
लुटिया न डूबेगी जल में,
        सबसे पहली शर्त है।
कोई रोता है रोटी को,
        किसी को पानी की दरकार।
किस-किस का अब ध्यान रखेंगी,
           मोदी जी की यह सरकार।
स्वार्थ भाव का लड्डू देखो,
       हर कोई चखना चाहे है।
एक तरफ बूचड़ में बकरे,
       दूजी और ये गायें हैं।
मत रोको अब कोई किसी को,
          प्रजातंत्र की बारी है।
किसी गले में फूलों की माला,
       किसी के गले में आरी है।
सांड से पलते हैं छुटभैए,
       चाट-चाट के तलवे हैं।
नेताजी की महिमा न्यारी,
       बड़े ठाठ और जलवे हैं।
इसीलिए कहती हूँ ‘आभा’,
       कोशिश तुम पुरजोर करो,
चोर को केवल चोर ही बोलो,
        व्यर्थ का न तुम शोर करो।
                                                                     #आभा दुबे ‘अनामिका’
परिचय : आभा दुबे ‘अनामिका’ मध्यप्रदेश के मंडला में बसी हुई है। आप अखिल भारतीय साहित्य परिषद(महाकौशल प्रांत) की सदस्य हैं। साहित्य की विधा-गीत,ग़ज़ल,लेख तथा कहानी आदि में सक्रिय हैं।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Specialist Help on Composing an Essay for Students

Fri Jul 7 , 2017
Specialist Help on Composing an Essay for Students Composing an essay is just not a simple task which is there is certainly constantly an incredible number of aid in the issue you might be talking about offered. Post Views: 560

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।