सौभाग्य का राजतिलक हरियाली तीज

0 0
Read Time5 Minute, 19 Second

भारत त्योहारों का देश है, यहाँ हर त्योहार का अपना अलग महत्व है और ऐसे ही महत्त्व के बीच जब कोई त्योहार प्राकृतिक पूजन और सांस्कृतिक समन्वय आधारित हो, वह अपने आप में राजतिलक हो जाता है। इसी तरह प्रकृति से जुड़ा त्योहार हरियाली तीज श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को आता है। इस कारण इसे श्रावणी तीज के नाम से भी जाना जाता है। तीज अपने साथ नई जीवन ऊर्जा लेकर आती है। श्रावण मास में जहां प्रकृति अपने अनुपम ख़ज़ाने से वसुंधरा के सौंदर्य को और निखारती है, वहीं मानव हृदय की भावना का अद्भुत समन्वय तीज के माध्यम से दृष्टिगत होता है । प्रत्येक त्योहार मनाने के पीछे कोई न कोई कारण निहित होता है । चाहे वह पारंपरिक हो, पौराणिक हो, सांस्कृतिक हो, धार्मिक या प्राकृतिक। हरियाली तीज भी प्रकृति का एक उत्सव है। इस समय वर्षा ऋतु के प्रभाव से पृथ्वी पूरी तरह हरी-भरी हो जाती है, जो हरियाली तीज के नाम को पूरी तरह सार्थक करती प्रतीत होती है।
पौराणिक संदर्भों के अनुसार, हरियाली तीज देवी पार्वती व भगवान शिव के पुनर्मिलन का प्रतीक है । शिव- शक्ति के सफल दांपत्य की आराधना का दिन है। यह मान्यता प्रसिद्ध है, कि भोलेनाथ को पति के रूप में प्राप्त करने हेतु देवी गौरी ने कठोर तपस्या की और 108 में जन्म में उनकी तपस्या सिद्ध हुई। जिससे भगवान शिव ने उन्हें पत्नी के रूप में स्वीकार किया । संभवतः इसी कारण कुँवारी महिलाएं सुयोग्य वर पाने हेतु और विवाहित स्त्रियाँ सुखी दाम्पत्य के लिए तीज का व्रत अनुष्ठान करती हैं।
तीज के दिन मां गौरी की झांकियां निकलती हैं। स्त्रियां आकर्षक वस्त्र आभूषण से सुसज्जित हो माता की उपासना करती हैं, कि उन्हें व उनके परिवार के जीवन में इंद्रधनुषी रंग सदैव बना रहे। पूजा के बाद सभी महिलाएं एक साथ गौरीशंकर से जुड़े लोकगीत गाती हैं । वह परिवार की वरिष्ठ महिला ( विशेषकर सास) से आशीर्वाद लेती हैं । हरियाली तीज में हरे रंग का विशेष महत्त्व है । ठंडी तासीर वाली मेहंदी इसका ख़ास आकर्षण है , जो प्रेम व उमंग के संतुलन हेतु अत्यंत उपयोगी है । सावन में तीज पर झूले का भी अपना महत्त्व है। महिलाएं सज-सँवरकर झूला झूलती हुईं सावन से संबंधित लोक गीत गाती हैं । रात में चंद्रमा को अर्ध्य देने के पश्चात ही महिलाएं भोजन करती हैं। इन्हें मायके व ससुराल से सिंधारा (वस्त्र,शृंगार का सामान, मेहंदी व मिष्ठान ) भेजने की परंपरा भी बख़ूबी निभाई जाती है।
देश की राजधानी हो या सुदूर प्रदेश, हरियाली तीज विशेषकर उत्तर भारत में पूरी आस्था व उल्लास से मनाया जाने वाला त्योहार है। अलग-अलग स्थानों पर मनाने की विधियां अलग होती हैं । जैसे, वृंदावन में बांके बिहारी मंदिर में राधा कृष्ण की पूजा की जाती है। यहाँ भगवान कृष्ण को झूला झुलाया जाता है। वहीं राजस्थान में गौरी शंकर की पूजा की परंपरा है। गुजरात और महाराष्ट्र में पारंपरिक नृत्य गरबा के माध्यम से स्त्रियां माता पार्वती की स्तुति करती हैं।
हरियाली तीज मनाने का एक प्रमुख कारण और भी है, और वह है धरती पर लहराती फसल का उत्सव साथ ही अच्छी पैदावार की कामना। इस त्योहार के आसपास खेतों में खरीफ़ फसलों की बुवाई भी शुरू हो जाती है। इस प्रकार सौभाग्य का प्रतीक हरियाली तीज प्रकृति के वरदानों से भरपूर एक लोकप्रिय त्यौहार है, जो देश में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। भावना शर्मा लेखिका, दिल्ली।
राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य, मातृभाषा उन्नयन संस्थान

matruadmin

Next Post

मध्य प्रदेश किरायेदार अधिनियम, 2022 की जानकारी

Wed Aug 3 , 2022
विधि संबंधित जानकारियों का गुलदस्ता किराये के उद्देश्य के लिए इन घरों की अनुपलब्धता के मुख्य कारणों में से एक राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के मौजूदा कानून हैं जो किराए पर लेने को हतोत्साहित करते हैं क्योंकि जमींदारों और किरायेदारों के बीच विवादों की बहुत संभावना थी। रहने के […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।