द्रौपदी मुर्मू: पहली बार तबके से शीर्ष तक

6 0
Read Time5 Minute, 49 Second

भारतीय संस्कृति सदैव से ही मातृशक्ति की आराधक व पूजक के रूप में संसार में प्रसिद्ध है। शक्ति की उपासना और प्रथम स्थान की आराधना का तत्व भी शक्ति को माना जाता है। सनातन ग्रंथ मनुस्मृति में तो स्पष्ट लिखा भी है कि ‘यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः’ यानी जहाँ स्त्री का सम्मान सर्वोपरि हो, वही व्यास वैदिका है, वहीं देवता निवास करते हैं। और विश्व में भारत ही एकमात्र ऐसा देश है, जिसके नाम के आगे माता शब्द प्रयुक्त होता है। इस समय दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत के ही सर्वोच्च पद राष्ट्रपति के लिए चुनाव हो रहे हैं और इस पद के लिए दुनिया के सबसे बड़े राजनैतिक दल भाजपा एवं उसके सहयोगियों के समूह राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ने सतयुगीन माता शबरी की परम्परा में जन्मी द्रौपदी मुर्मू को प्रत्याशी बना कर उसी लोकतंत्र के मान में स्त्री के सामर्थ्य को सम्मानित किया है।

देश के सबसे बड़े संवैधानिक पद के लिए हो रहे चुनाव के तहत एनडीए समर्थित उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का नाम लगातार मीडिया में चर्चा में बना हुआ है। और जल्द ही देश के अगले राष्ट्रपति कौन होंगे उसका परिणाम सामने होगा। देखा जाए तो देश के 15वें राष्ट्रपति चुनाव में हाशिए के एक समुदाय से किसी व्यक्ति का आना निश्चय ही बहुत बड़ी बात है। लोक सभा, राज्य सभा व विधानसभाओं में एनडीए के संख्या बल को देखते हुए द्रौपदी मुर्मू की जीत लगभग तय मानी जा रही है। भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल (2007-2015) के बाद द्रौपदी मुर्मू का दूसरी महिला राष्ट्रपति व आज़ादी के बाद जन्म लेने वालीं तथा देश की प्रथम आदिवासी राष्ट्रपति बनना अपने अपने आप में ऐतिहासिक होगा।
ओडिशा के मयूरभंज में 1958 में जन्मी द्रौपदी मुर्मू का व्यक्तिगत जीवन अत्यंत संघर्षपूर्ण रहा है। करियर के लिहाज़ से देखा जाए तो क्लर्क से लेकर पार्षद, विधायक, मंत्री, राज्यपाल होते हुए देश के सर्वोच्च पद पर पहुँचना लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत है। आधी आबादी के बावजूद लोकसभा में महिलाओं की हिस्सेदारी 14 .36% और राज्यसभा में 10% है, जबकि वैश्विक औसत 22% के करीब है। यहाँ तक कि महिला प्रतिनिधित्व के मसले पर हमारे पड़ोसी देश नेपाल, बांग्लादेश आदि भी हम से आगे हैं। ऐसे में द्रौपदी मुर्मू का शीर्ष नेतृत्व तक पहुँचना देश और पूरी दुनिया में महिला सशक्तिकरण की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा।
हाशिए को मुख्यधारा में जोड़ने के लिए उनके बीच से प्रतिनिधित्व होना पूरे समुदाय को गर्व और आत्मविश्वास का अवसर प्रदान करता है। हमारे देश में राष्ट्रपति कार्यपालिका, विधायिका, न्यायपालिका और सशस्त्र बलों का पदेन प्रमुख होता है। इस लिहाज़ से द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति बनना विशेषकर महिलाओं के लिए आत्मविश्वास और गौरवपूर्ण क्षण है। इससे इनमें तादात्मीकरण और अनुकरण की प्रवृत्ति विकसित होगी, जो जीवन के विभिन्न क्षेत्रों जैसे व्यक्तिगत, सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक प्रगति के लिए अत्यंत आवश्यक है।
हालांकि व्यावहारिक रूप से देश में संसदीय प्रणाली होने से राष्ट्रपति पद प्रतीकात्मक होने का अंदेशा रहता है। किंतु सैद्धांतिक रूप से ही सही देश के संवैधानिक प्रमुख के पद पर पहुँचना उल्लेखनीय है। ऐसे में यह आशा की जा सकती है कि द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति बनने का दूरगामी प्रभाव सकारात्मक रूप से भारतीय राजनीति में महिलाओं के लिए एक ऐतिहासिक कदम साबित होगा।
और आदिवासी समुदाय के उत्थान के लिए चिंतारत लोकतांत्रिक समन्वय को भी तबके से शीर्ष तक पहुंचने का संदेश देगा।

#भावना शर्मा,
राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य, मातृभाषा उन्नयन संस्थान,
दिल्ली, भारत
Email- bs123bhavna@gmail.com
[लेखक एक कहानीकार के रूप में प्रसिद्ध होने के साथ-साथ हिन्दी भाषा के प्रचार के लिए देशभर में कार्यरत है]

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

प्रेमचंद जयंती पर कहानी संग्रह 'मोहरबंद' का विमोचन एवं चर्चा रविवार को

Fri Jul 29 , 2022
आई टी इंजीनियर श्रुति पंवार का कहानी संग्रह है ‘मोहरबंद‘ इन्दौर । हिन्दी कहानी के सम्राट मुंशी प्रेमचंद की जन्म जयंती के अवसर पर मातृभाषा उन्नयन संस्थान द्वारा आयोजित ‘प्रेमचंद स्मृति प्रसंग’ में रविवार को युवा रचनाकार श्रुति अखिलेश पंवार के कहानी संग्रह ‘मोहरबंद’ का विमोचन एवं चर्चा का आयोजन […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।