आज़ादी का जश्न मनाएं

0 0
Read Time3 Minute, 4 Second

आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।
दी है जान वतन पर जिसने, उनको नहीं भुलाएं।।

वीरों ने जो सपने देखें, पूरा कर दिखलाया
और विदेशी गोरों को भारत से मार भगाया
याद उन्हें कर अपना तिरंगा, नभ में हम फहराएं
आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।।

जूझे थे जो भूख, विवशता, और जूझे कंगाली से
गोरों से तो जूझते रहते बेकारी बेहाली से
सोच सोच कर उनके समय को, आंखें नम हो जाएं
आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।।

कमर कसी आज़ादी लेंगे, या फिर सिर कटवायेंगे
वीरों ने खायी थी कसम , गोरों को मार भगायेंगे
अपनी हक़ की खातिर लड़ना वीर हमें सिखलाएं
आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।।

तब तो ना था जातिवाद ना धर्मवाद का झमेला
चाह रहे सब दास मुक्त हो आज़ादी का मेला
अखण्डता का ज्ञान दिया और सबको एक बनाएं
आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।।

देख तिरंगा लहराता हमें नाज़ देश पर होता है
सोचो आज़ादी पाने को एक वीर क्या खोता है
हमको जीवित रखने को खुद अपने प्राण गंवाए
आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।।

धरती ये अशफाक की है, विश्मिल सुभाष भी बेटे हैं
हो शहीद आज़ाद, भगत, मां के आंचल में लेटे हैं
कुर्बानी का सबक हमारे पूर्वजों ने सिखलाएं
आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।।

अंग्रेजों से बदतर लोग हैं, जिन्होनें हमको बांटा है
जातिवाद और धर्मवाद की तलवारों से काटा है
बनकर नेक एक बनकर अपनी पहचान बनाएं
आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।।

बुद्धि हमारी भरमायी और आपस में लड़वाया है
अपने आपसी द्वन्द्व, द्वेष का लाभ उन्होंने पाया है
द्वन्द्व द्वेष को त्याग एकता मार्ग को हम अपनाएं
आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।।

जातपात और ऊंच नीच के भाव को हमें मिटाना है
हर भारतवासी को अखण्डता का पाठ सिखाना है
वीर शहीदों की कुर्बानी हम न व्यर्थ गंवाएं
आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।।

खुद साधन सम्पन्न हों हम ना बने किसी पर भार
अपनी शक्ति का लोहा माने, ये पूरा संसार
भारत विश्वगुरू है अब फिर से ‘एहसास’ कराएं
आज़ादी का जश्न मनायें, आओ झूमे गाएं ।
दी है जान वतन पर जिसने उनको नहीं भुलाएं।।

अजय एहसास
अम्बेडकर नगर (उ०प्र०)

matruadmin

Next Post

क्या देश को ओबीसी युद्ध में धकेला जा रहा है?

Fri Aug 13 , 2021
आरक्षण के मुद्दे पर चुनावी राजनीति से प्रेरित मोदी सरकार ने दो सोचे समझे कुटिल कदम उठाये हैं| एक, जाति-आधारित जनगणना न कर, घोर जातिवादी सवर्ण मानसिकता को भुनाने के लिए| और दूसरा, 127वें संविधान संशोधन के माध्यम से, लुप्त होती सरकारी नौकरियों के परिप्रेक्ष्य में ओबीसी बन्दरबाँट पर अनुकूल […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।