अंतर्राष्ट्रीय फलक पर कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’

2 0
Read Time3 Minute, 13 Second

नवोदित कवि सुनील चौरसिया ‘सावन’ के काव्य संग्रह ‘हाय री! कुमुदिनी’ में संकलित रचनाएं एक ऐसा मधुकोश है जो उनके विविधवर्णी पुष्पों के पराग से निर्मित है। चूँकि कवि पेशे से शिक्षक हैं अत: उनकी प्रत्येक कविताओं में शिक्षा या उपदेश का आग्रह अनायास परिलक्षित होता है। पर्यावरण प्रेमी कवि ने ‘कुहू कुहू बोले रे कोयलिया ‘, ‘पहाड़’ जैसी कविताओं में जमकर लोकरस की वर्षा की है। कवि का जन्मस्थल दो लोकोत्तर महापुरुषों की विशेष कार्यस्थली कुशीनगर से संबंधित है। कुशीनगर जहाँ एक ओर कबीर दहाड़ रहे हैं वहीं बुद्ध की करुणा मुस्करा रही है। बालिकाओं के प्रति सामाजिक भेदभाव उन पर होने वाले अत्याचार, दहेज की विभीषिका आदि का समाधान कवि ने स्त्री शिक्षा के माध्यम से प्रस्तुत किया है। ‘ गर्भ में बेटियां ‘, ‘ आओ, पढ़ाई कर लो बेटी ‘, ‘महंगा वर’ इसी स्वर की कविताएँ हैं। इंसान का जीवन संघर्षों की आंच में पककर ही निखरता है- ‘पत्थर बनकर गुलाब होना’ इसी की अभिव्यक्ति है। कबीर और बुद्ध की दंशना की पुकार ‘ सांस और लाश’ कविता बखानती है जहाँ जीवन लास्य के रोमांस से मुक्ति के मार्ग का द्वार उद्घाटित होता है। संग्रह का नाम ‘हाय री ! कुमुदिनी’ कबीर की कविता ‘काहे रे नलिनी ‘ की तर्ज पर रखा गया है। कबीर जैसे अनुभवसिद्ध कवि की तरह सुनील चौरसिया ‘सावन’ की कविता इंसान के परितृप्त मन पर अमृत वर्षण करती है। इनकी कविताओं में जीवन, जगत, लोक, मानव-मन के अन्तर्तम की यात्रा है। साथ ही माता-पिता, व्यक्ति व समाज की जिम्मेदारियों का सम्यक चित्रण देखने को मिलता है। इनके पाठक देश- विदेश तक फैले हैं। इनकी रचनाएँ देश- विदेश की ख्यातिप्राप्त एवं प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में अक्सर प्रकाशित होती रहती हैं। व्यक्तिगत रूप में मृदुभाषी, हँसमुख व भावुक कवि ‘सावन’ जी के सद्य: प्रकाशित काव्य संग्रह की सफलता की कामना करते हुए आशीष देता हूँ। सुधी पाठकों के हृदय में इन काव्य ध्वनियों का संचार व प्रभाव लम्बे समय तक रहेगा। शुभकामनाओं सहित

डॉ. जितेन्द्र कुमार तिवारी
सहायक प्रोफेसर (हिन्दी),
दाहूँग (अरुणाचल प्रदेश)

matruadmin

Next Post

खाली न जाये

Tue Jul 13 , 2021
ये दिल कमवक्त किसी न किसी पर आ जाता है। भले ही सामने वाला इसे पसंद करे न करे। पर ये दिल उन्हें देखकर बहक ही जाता है। और मोहब्बत का बीज यही से अंकुरित होता है।। दिलकी पीड़ा सहकर गीतकार बन गया। मेहबूब को फूल भेजकर उसके आशिक बन […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।