सदफ़ के सपने

2 0
Read Time33 Second

न मोती मिले न ख्वाब मिले,
रेत की नदी में सदफ़ के सपने।

हकीकत की धूप आंख में सपने ,
हदबंदी बाहर शग़फ़ के सपने।

तेज़ हवा दिल पर खींचे कमान,
सय्यारे सभी तरफ़ के सपने।

बरसों के गम घूंटू दयार में,
ज़िंदगी बनी कलफ़ के सपने ।

आंख है खाली दिल भरा पड़ा,
देख रहे हम अज़ल के सपने ।

गढ़ी हो नाल बुलाती वो मिट्टी,
खुल के मिले हदफ़ के सपने।

#बिजल जगड
मुंबई घाटकोपर

matruadmin

Next Post

विजयवर्गीय ने लॉन्च किया 'हम रोशनी कर जाएँगे..' गीत

Mon Jun 14 , 2021
इन्दौर। कोरोना की भयावहता से अवसाद में डूब रहे देशवासियों में उत्साह का संचार करने के लिए हिन्दी कवि सम्मेलनों के स्टार कवि, इन्दौर निवासी अतुल ज्वाला ने ‘हम रोशनी कर जाएँगे’ एक गीत लिखा, जिसका लोकार्पण भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और कद्दावर नेता कैलाश विजयवर्गीय ने पितृ पर्वत पर […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।