बचपन की यादों को यारो मत भूलाना

0 0
Read Time2 Minute, 22 Second

शाम होते ही छतो पर चढ़ जाना,
छतो पर चढ़कर पानी छिड़कना,
पानी छिड़का कर गद्दे बिछाना
गद्दे बिछाकर उसपर चादर बिछाना।
बचपन की यादों यारो मत भुलाना।।

आधी रात को बरसात का आ जाना
गद्दे चादर उठाकर नीचे भाग जाना,
भाग कर फिर से मुंह ढक कर सो जाना,
मम्मी ने सुबह डंडे मारकर जगाना,
बचपन की यादों को यारो मत भूलाना

सुबह होते ही खेतो पर चले जाना,
खेतो पर जाकर वहां रहट चलाना,
रहट चलाकर वहां नंगे नहाना,
नहाकर फिर ढेर सारे गन्ने खाना,
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

किराए की साइकिल लाकर उसको चलाना,
गद्दी पर न पैर आए उसकी कैची चलाना,
एक घंटे की जगह सवा घंटे चलाना,
पैसे देने के नाम पर करते थे बहाना,
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

फटे टायरो को गलियों में चलाना,
साईकिल के रिमो को डंडे से भगाना,
डंडा टूट जाए तो कीलो से जुड़वाना,
जुड़वा कर फिर से पहिया चलाना,
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

आंख मिचौली में किसी के घर छिप जाना,
छिपकर भी दोस्तो को आवाजे लगाना,
पकड़े गए तो रोकर घर भाग जाना,
आ जाते थे घर दोस्त, फिर उनका मनाना,
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

कोड़ा जमाई खेल में आंखे दिखना,
खोखों के खेल में किसी के पीछे छुप जाना,
कबड्डी के खेल में अपनी टीम को बनाना,
कबड्डी कबड्डी कहकर दूसरे के पाले में जाना,
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

खेल के मैदान में खुरपे से गुच्ची बनाना,
लकड़ी देकर बढ़ई से गुल्ली डंडा बनवाना,
फिर यार दोस्तो को उनके घरों से बुलवाना,
बुलवाकर फिर गुल्ली डंडे की दो टीम बनाना,
बचपन की यादों को यारो मत भुलाना।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

matruadmin

Next Post

मौत का खेल

Fri May 7 , 2021
यमराज मुर्दो की बैठकर रहे थे। वे जानना चाह रहे थे कि उनके पास इतने मुर्दे अचानक कैसे से आ रहे हैं। वे अपने मातहत कर्मचारियों और मुर्दो से पूछ रहे थे कि वे आखिर इतनी बड़ी संख्या में क्यों और कैसे आ रहे हैं। इससे पूर्व उनके पास आने […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।