मेला

0 0
Read Time2 Minute, 15 Second

नदी किनारे लगा था मेला,
सारे बच्चे मिलजुल गये घूमने |
धमा-चौकड़ी सबने खूब मचाई,
देखा जो हाथी बनाके साथी लगे चूमने ||

दही, जलेबी, पानी-पूरी, हलवा और कचौड़ी,
सब बच्चों ने चख-चखकर खाई |
फिर सर्कस जाने की पूरी करी तैयारी,
शेर, लोमड़ी, भालू, चीता और देखा बंदर भाई ||

एक जगह चटख रहे मक्का के फूले,
और थोड़ा आगे लाल, हरे, पीले गुब्बारे |
सब बच्चों ने थोड़े-थोड़े लिये खरीद,
धीरे-धीरे सांझ हो गई, शौक हुए न पूरे ||

चश्मा, चकरी, झुनझुना और बांसुरी,
खाकर आइसक्रीम लेली टोपी-बंदूक |
घूम-घामकर मेला, घर जाने की करी तैयारी,
गाँव के प्रधानजी खरीद लाये एक संदूक ||

संदूक रखा ट्रैक्टर की ट्राली में,
ऊपर चढ़ गये सारे बच्चे |
सरपट-सरपट दौड़ा ट्रैक्टर,
मेला देख हंसी-खुशी घर आये बच्चे ||

#मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

परिचय : मुकेश कुमार ऋषि वर्मा का जन्म-५ अगस्त १९९३ को हुआ हैl आपकी शिक्षा-एम.ए. हैl आपका निवास उत्तर प्रदेश के गाँव रिहावली (डाक तारौली गुर्जर-फतेहाबाद)में हैl प्रकाशन में `आजादी को खोना ना` और `संघर्ष पथ`(काव्य संग्रह) हैंl लेखन,अभिनय, पत्रकारिता तथा चित्रकारी में आपकी बहुत रूचि हैl आप सदस्य और पदाधिकारी के रूप में मीडिया सहित कई महासंघ और दल तथा साहित्य की स्थानीय अकादमी से भी जुड़े हुए हैं तो मुंबई में फिल्मस एण्ड टेलीविजन संस्थान में साझेदार भी हैंl ऐसे ही ऋषि वैदिक साहित्य पुस्तकालय का संचालन भी करते हैंl आपकी आजीविका का साधन कृषि और अन्य हैl

matruadmin

Next Post

कर्मवीर के कदम चूम लें

Sat Nov 9 , 2019
कर्मवीर वह कहलाता जिसकी रुकती नहिं चाल। कर्मवीर वह कहलाता जिसका अनुगामी काल। जिसकी चलती हैं हर साँसें सदा कर्म के साथ- कर्मवीर वह कहलाता, नहिं वृथा बजाए गाल।। नहीं झुका है नहीं झुकेगा इसका उन्नत भाल। कर्मवीर के कदम चूम लें, ये हैं असली लाल।। कर्मवीर जिसके पैरों में […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।