बनो

0 0
Read Time3 Minute, 40 Second

यह अचानक क्या हुआ? मुझ में ऐसी शक्ति कहां से आई? क्या मुझे भी मकड़ी ने काटा है? काटा है तो कब काटा है ? मुझे कुछ समझ में क्यों नहीं आ रहा है? अगर काटता तो दुकता ना ? लेकिन मैंने दर्द का अनुभव तो कभी नहीं किया। कहीं नहीं किया । फिर कैसे मैं स्पाइडर मान के सामान उड़ रहा हूं? मेरे हाथों से जाल कैसे निकल रहा है? अच्छा लग रहा है। मैं भी ताकतवर बन चुका हूं। एक तरफ से अच्छा ही हुआ । मैं सबसे पहले स्कूल पहुंच सकता हूं और स्कूल के छूटते ही सबसे पहले घर वापस आ सकता हूं। एक बार मुझे कोशिश करना पड़ेगा कि भारी वजन को लेकर मैं उड़ सकता हूं कि नहीं? अगर ऐसे कर सकता हूं तो अपने मम्मी पापा को उनके दफ्तर तक मैं खुद छोड़कर आऊंगा और वापस लाऊंगा । अपने सारे दोस्तों को इतना खुश रखूंगा कि वे कभी मुझसे दूर नहीं जा पाएंगे। सबको जहां चाहे ले जा सकता हूं जो कुछ चाहे चाहे कर सकता हूं। जिंदगी सब तरह से मजेदार होगी। कितना ताकत है मुझ में? एक बार क्यों ना मैं अभी कोशिश कर लूं ? उड़ने के प्रयत्न में था कि काट से धड़ाम से नीचे गिर पड़ा रक्षित। उसकी रक्षा के लिए दौड़ कर आई मां । रक्षित ने अपने स्पाइडर-मैन बन जाने की कहानी सुनाई। मां ने कहा- अरे! स्पाइडर-मैन एक काल्पनिक कहानी है। तुम उसे छोड़ो। पढ़ लिख कर परफेक्ट मैन बनो। रक्षित को राह मिल गया था।

आर. जे. संतोष कुमार, कोयंबतूर ,तमिलनाडु

परिचय-नाम: आर. जे. संतोष कुमार
साहित्यिक नाम: जेमि
जन्म स्थान: पालघाट, केरल
निवास स्थान: जन्म से तमिलनाडु

शैक्षिक योग्यता: एम. ए.,
(हिंदी) एम .ए.,(अंग्रेजी), एमबीए., एम जे एम सी(Master of Journalism Master of Communication)
एम. फिल(हिंदी) बी एड

संप्रति: पूर्व प्रधानाचार्य, महासचिव, शबरी शिक्षा संस्थान. शिक्षाविद, लेखक ,प्रवक्ता
संपादक- शबरी शिक्षा समाचार- हिंदी मासिका।
लेखन विधा: कविता, कहानी,लेख,नाटक, आलोचना, लघुकथा,यात्रा संस्मरण,अनुवाद, साक्षात्कार, संपादन।
भाषा ज्ञान: हिंदी ,तमिल, मलयालम ,संस्कृत , अंग्रेजी ,फ्रेंच तथा जर्मन।

प्रकाशित रचनाएं: हजारों कविताएं, हजारों कहानियां, सैकड़ों बालोपयोगी किताबें, तीन शब्दकोश, कविता संग्रह निबंध संग्रह, व्याकरण मालाएं तथा कुंजियां।

सम्मान: विक्रमशिला विद्यापीठ से विद्यासागर, महात्मा फुले संस्थान से भारत रत्ना डॉक्टर अंबेडकर सम्मान आदि के साथ उत्तर भारत के विभिन्न संस्थाओं से सम्मानित।
विशेष: उत्तराखंड, राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश आदि प्रांतों के मुख्यमंत्रियों तथा माननीय नरेंद्र मोदी के सचिव से प्रशंसा पत्र।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

चौपाई छंद विधान

Thu Sep 19 , 2019
चौपाई सममात्रिक छंद है। इसमें चार चरण होते हैं। प्रत्येक चरण में १६,१६ मात्राएँ होती हैं। चरणान्त २२ हो २२ के विकल्प में ११२, २११,११११ भी मान्य है। चरणांत में गुरु के बाद लघु (२१) न हो। कल संयोजन का ध्यान रखें। उदाहरण.. ईश मनुज धन सत्ता नारी। २१ १११ […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।